सिन्धिया की मर्जी के बिना पहली बार हुई यह नियुक्ति

अशोकनगर| हितेंद्र बुधौलिया। बीते दिनों मध्य प्रदेश की सत्ता के उठापटक के दौरान अशोकनगर जिले में कॉंग्रेस पार्टी में भी आमूलचूल उठापटक हुआ था। जिले के तीन में से दो विधायकों ने अपने पदों से इस्तीफा दे दिया था, तथा कांग्रेस जिलाध्यक्ष सहित कई दूसरे पदाधिकारियों ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थन में कांग्रेस छोड़ दी थी इसके बाद कांग्रेस ने यह नया जिलाध्यक्ष घोषित कर दिया है नई सराय तहसील के खास खेड़ा के पूर्व सरपंच हरि सिंह रघुवंशी को पार्टी में नया जिला अध्यक्ष बनाया है। रघुवंशी चंदेरी विधायक गोपाल सिंह चौहान करीब माने जाते है।

उल्लेखनीय है कि करीब इस माह के शुरू में प्रदेश की कमलनाथ सरकार को गिराने के लिये पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के नेतृत्व में प्रदेश के 22 विधायकों ने सरकार से बगाबत करते हुये अपने इस्तीफे दे दिये थे। सिंधिया के कॉंग्रेस से इस्तीफा देते ही कई कोंग्रेसियो ने भी त्यागपत्र दे दिये थे। त्यागपत्र देने बालो में कॉंग्रेस के जिलाध्यक्ष कन्हैया राम लोधी भी शामिल थे। कुछ दिन पहले तक सिंधिया की मर्जी के बगैर इस इलाके में कोंग्रेस के अंदर पत्ता भी नही हिलता था।अब उनके जाने के बाद जीके में बचे एक मात्र विधायक गोपाल सिंह चौहान के निकट के कोंग्रेस नेता हरीसिंह रघुवंशी को कोंग्रेस का जिलाध्यक्ष बनाया गया। अभी तक दिग्विजय सिंह अशोकनगर जिले में हस्तक्षेप नही करते थे मगर इस नियुक्ति के बाद माना जा रहा है कि अब इस क्षेत्र में उनका दखल शुरू हो जायेगा।

सिन्धिया की मर्जी के बिना पहली बार हुई यह नियुक्ति