उड़ान महोत्सव : स्कूली बच्चों के साथ प्रशासन ने उड़ाई पतंग

अशोकनगर|बच्चों के चेहरे पर मुस्काऊन लाना उड़ान कार्यक्रम की सार्थकता है। हमारा लक्ष्यक बच्चों के जीवन में  नई उचाईयों को लाना है। उडान कार्यक्रम के माध्यम से बच्चों के जीवन में उत्साह और खुशियां देकर नई उचाईयों को छूने देना है। इस आशय के विचार अशोकनगर विधायक जजपाल सिंह जज्जी ने मंगलवार को मकर सक्रांति के पावन अवसर पर आदिवासी बच्चों को पतंग प्रतियोगिता के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में व्यक्त किए।  कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. मंजू शर्मा ने की। 

पतंग महोत्सव कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विधायक जजपाल सिंह ने कहा कि कलेक्टर डॉ. मंजू शर्मा के द्वारा नवाचार कर पिछले वर्ष से उड़ान कार्यक्रम की शुरूआत जिले में की गई। इस कार्यक्रम के सफलतम दूसरे वर्ष में प्रवेश कर आदिवासी बच्चों के जीवन को खुशियों से भर दिया। मैं कलेक्टर की सोच को सलाम करता हूं। बच्चों  के चेहरों पर मुस्क राहट लाने पर ईश्वर भी प्रसन्न होता है। इस सफल प्रयास के माध्यम से आदिवासी बच्चों को बच्चों को ऊँची उड़ान भरने के लिए पतंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। साथ ही सभी बच्चों ने मकर संक्राति के अवसर पर स्वादिष्ट व्यंजनों का लुत्फ उठाया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कलेक्टर डॉ.मंजू शर्मा ने कहा कि हौसलों के पंखों से बेटियां भर रही ऊंची उड़ान। बेटियों द्वारा हर क्षेत्र में आगे बढकर अपना नाम रोशन कर रही है। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष मंकर संक्राति के अवसर पर देश की संस्कृति की परम्परा को कायम रखते हुए महिला एवं बाल विकास विभाग के माध्यम से आदिवासी बच्चोंा के साथ उड़ान कार्यक्रम की शुरूआत जिले से की गई थी। इस कार्यक्रम को भारत सरकार द्वारा काफी सराहा गया तथा बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं के वार्षिक कैलेण्डर में उड़ान कार्यक्रम को जोडा गया। यह हमारे जिले के लिए गौरव की बात है।

सांस्कृतिक कार्यक्रमों में दिखी संस्कृति की झलक पतंग महोत्सव कार्यक्रम में महाकाल गु्रप राजथालकी न द्वारा परम्पातरिक वेशभूषा से सजे राजस्थानी लोक नृत्य भई तथा चरई नृत्य के माध्यम से लोक संस्कृति की मनमोहक प्रस्तुति से सभी का मन मोह लिया। संस्कृति स्कूल के बच्चों द्वारा एरोविक्स डांस की प्रस्तुाति दी गई..!!