भारतीय मजदूरों को काम पर रखे चाइना कंपनी या तो बंद करें काम-रामकिशोर कावरे

बालाघाट। सुनील कोरे| भरवेली मॉयल मंे हाई स्पीड शाफ्ट का काम कर रही चाईना कोल नंबर 3 सीसी कंपनी द्वारा भारतीय मजदूरों को काम पर नहीं रखने के मामले में परसवाड़ा विधायक रामकिशोर कावरे ने मॉयल प्रबंधन से इस मामले में चर्चा की। जिसमें उन्होंने कहा कि यदि चाईना कंपनी, भारतीय मजदूरों को काम पर नहीं ले रही है तो मॉयल में चल रहा, कंपनी का कार्य बंद करवाये। विधायक रामकिशोर कावरे ने कहा कि उन्हें मीडिया के माध्यम से जानकारी मिली थी कि भरवेली मॉयल में काम कर रही चाईना कोल नंबर 3 सीसी कंपनी द्वारा भारतीय मजदूरों को काम पर नहीं लिया जा रहा है। जिसके बाद उन्होंने मॉयल प्रबंधन से इस मामले में चर्चा कर कंपनी को भारतीय मजदूरों को काम पर लिये जाने के लिए निर्देशित करने और मजदूरों को काम पर नहीं लिये जाने पर कंपनी के काम को बंद करवाने की बात कही थी। उन्होंने कहा कि चाईना कंपनी द्वारा भारतीय मजदूरों को काम पर रखने की हठधर्मिता बर्दाश्त नहीं की जायेगी।
 दूसरी ओर मॉयल प्रबंधक उम्मेदसिंह भाटी ने बताया कि कंपनी द्वारा भारतीय मजदूरों को काम पर नहीं लिये जाने के को लेकर कंपनी को काम बंद करने के लिए लिखित नोटिस जारी किया गया है।
 गौरतलब हो कि भरवेली मॉयल मंे चाईना कोल नंबर 3 सीसी कंपनी का काम देख रहे कंपनी के लोगो ने लॉक डाउन में कंपनियो को शुरू करने की अनुमति के बाद लगभग 62 भारतीय मजदूरो को काम से निकाल दिया गया था। जिसके बाद से मजदूर बेरोजगार हो गये थे। जिसको लेकर मजदूरो ने जनप्रतिनिधियों और प्रशासन से मांग की थी, कि कंपनी द्वारा उन्हें पुनः काम पर लिया जायें। चाईना कंपनी द्वारा भारतीय मजदूरों को काम पर नहीं लिये जाने के मामला जिलास्तर से प्रदेश और केन्द्रीय स्तर तक पहुंचने के बाद, अब जिले के राजनीतिक प्रतिनिधि, मजदूरों के पक्ष में आ गये है, और इस मामले में कंपनी पर भारतीय मजदूरों को काम पर रखे जाने की बात कही जा रही है।
बहरहाल अब देखना है कि मॉयल प्रबंधन के काम बंद करने के लिखित नोटिस के बाद चाईना कंपनी का अगला कदम क्या होता है। चूंकि कंपनी की ओर से काम बंद करने को लेकर कोई अधिकारिक बयान सामने नहीं आया है। वहीं इस मामले में कंपनी प्रबंधन मीडिया से बात करने से भी परहेज कर रहे है।
लॉक डाउन में चाईना कंपनी को काम प्रारंभ करने की अनुमति के बाद कंपनी के साथ काम कर रहे 62 भारतीय मजदूरों को काम से निकाल दिया था। मॉयल प्रबंधन के अंतर्गत कार्य कर रही चाईना कंपनी से भारतीय मजदूरों को काम से निकाले जाने को लेकर मॉयल प्रबंधन पर सवाल खड़े हो रहे थे। जिसको लेकर लगातार मीडिया मजदूरों की दुर्दशा को बयां कर रहा था।
 बताया जाता है कि कंपनी द्वारा काम से निकाले जाने के बाद भारतीय मजदूरों की आर्थिक हालत दयनीय हो गई थी और कंपनी द्वारा काम नहीं देने से भारतीय मजदूर बेरोजगार होकर आर्थिक संकट का सामना कर रहे है, जिनके सामने स्वयं के साथ परिवार को चलाने की जिम्मेदारी की समस्या मंुह फाड़े खड़ी है। इस मामले में भले ही मॉयल ने चाईना कंपनी को भारतीय मजदूरों को काम पर नहीं रखने को लेकर कंपनी को काम बंद करने के लिए लिखित नोटिस जारी किया है लेकिन मजदूरों की काम नहीं मिलने की समस्या, आज भी यथावत बनी हुई है। काम नहीं होने से बेरोजगार कंपनी के कर्मियों को काम कब मिलेगा, इस पर सवाल खड़े होने लगे है। काम नहीं होने से बेरोजगार कंपनी के कर्मियों का एक-एक दिन बड़ी मुश्किलों से कट रहा है।
 इनका कहना है
हमारे द्वारा चाईना कंपनी को मजदूरों को काम पर नहीं रखने को लेकर चाईना कंपनी को काम बंद रखने के लिए लिखित नोटिस जारी है।
उम्मेदसिंह भाटी, प्रबंधक, भरवेली मॉयल