बालाघाट: वैनगंगा नदी के शंकरघाट पर डूबने से आरक्षक की मौत

बालाघाट। सुनील कोरे| अपने दो साथियों के साथ वैनगंगा नदी के शंकरघाट में नहाने गये आरक्षक 27 वर्षीय समीर शेख पिता मो. अजीज शेख की घाट मंे डूबने से मौत हो गई। मूलतः रामपायली का रहने वाला आरक्षक समीर शेख, पुलिस लाईन में पदस्थ था। आज वह अपने दो अन्य साथियों के साथ नहाने गया था। जिसके साथी नहाते हुए नदी के उस पार चले गये थे। जबकि आरक्षक समीर शेख, पत्थर पर बैठा था। इस दौरान ही उसका पैर फिसलने से वह नदी के गहरे पानी में चला गया। जिसकी नदी के पानी में डूबने से मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलने के बाद घटनास्थल पर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी, एडीएसपी प्रतिपालसिंह महोबिया, सीएसपी सुमित केरकट आरआई, थाना प्रभारी विजयसिंह परस्ते घटनास्थल पहुंचे।
पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में होमगार्ड और स्थानीय गोताखारों की मदद से नदी के गहरे पानी में डूबे आरक्षक के शव को नदी से बाहर निकालकर शव पंचनामा कार्यवाही कर उसे पोस्टमार्टम के लिए जिला चिकित्सालय भिजवा दिया गया। देरी होने के कारण आरक्षक के शव का आज पीएम नहीं हो सका। जिसके शव का 8 मई को पोस्टमार्टम कराया जायेगा।

संभावना जताई जा रही है कि नहाने के बाद आरक्षक नदी के अंदर पत्थर पर बैठकर कपड़े धो रहा होगा, इस दौरान ही वह स्लिप होकर नदी के गहरे पानी में चला गया। जब तक नदी के दूसरे पार से उसके साथी बचाने पहुंचते, तब तक वह नदी के गहरे पानी में चला गया। जिसके शव को घंटो की मशक्कत के बाद खोजकर बाहर निकला गया।

इनका कहना है
पुलिस लाईन में पदस्थ आरक्षक समीर शेख आज अपने साथियो के साथ नहाने शंकरघाट आया था। जहां पत्थर पर बैठे आरक्षक का पैर स्लीप होने से वह नदी के गहरे पानी मंे चला गया। जिससे डूबने से उसकी मौत हो गई। शव को होमगार्ड और स्थानीय गोताखोरों की मदद से बाहर निकालकर, उसे पीएम के लिए भिजवा दिया गया है।
-अभिषेक तिवारी, पुलिस अधीक्षक