भाई ही निकला भाई का हत्यारा, पुलिस ने किया गिरफ्तार

विवेचना के उपरांत पुख्ता साक्ष्य मिलने पर कटंगी पुलिस ने मृतक के छोटे भाई विशाल ठाकरे को हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया है। जिसने बड़े ही योजनाबद्व तरीके से बड़े भाई नंदकिशोर ठाकरे की हत्या की थी

बालाघाट, सुनील कोरे। 15 अक्टूबर को कटंगी पुलिस ने सिवनी मेनरोड अम्बामाई एवं फारेस्ट कोड़मी नाका के बीच सड़क किनारे से एक युवक का शव बरामद किया था। जिसकी काफी देर बाद पहचान बरघाट अंतर्गत मानेगांव निवासी 28 वर्षीय नंदकिशोर पिता भीमसेन ठाकरे के रूप में हुई थी। जिसका शव का 16 अक्टूबर को पोस्टमार्टम कराकर पुलिस ने शव परिजनों को सौंप दिया था और मामले में मर्ग कायम कर जांच में लिया था।

प्रथमदृष्टया ही युवक की हत्या होने की आशंका पुलिस को थी। आखिरकार पीएम रिपोर्ट मानव हत्या की बात सामने आने और परिजनों की हत्या की आशंका जाहिर किये जाने के बाद कटंगी पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ हत्या और साक्ष्य छिपाने के मामले में धारा 302, 201 भादंवि के तहत अपराध कायम किया कर विवेचना में लिया था।

विवेचना के उपरांत पुख्ता साक्ष्य मिलने पर कटंगी पुलिस ने मृतक के छोटे भाई विशाल ठाकरे को हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया है। जिसने बड़े ही योजनाबद्व तरीके से बड़े भाई नंदकिशोर ठाकरे की हत्या की थी। छोटे भाई विशाल ने पेशाब करते समय पीछे से बड़े भाई के सिर पर पत्थर से हमला कर किया था, जिससे नंदकिशोर की घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी। जिसके बाद उसने शव को सड़क किनारे फेंककर बुलेरो वाहन से वापस लौट गया था।

बड़े भाई नंदकिशोर ठाकरे की हत्या को स्वीकार करने के बाद आरोपी ने बताया कि वह अपने बड़े भाई से हमेशा डांटते और फटकारते रहता था और पैसे भी नहीं देता था। जिससे मैंने उसे जान से खत्म करने की योजना बनाई।

14 अक्टूबर को रात्रि में भाई नंदकिशोर की मोटर सायकिल को बरघाट अस्पताल में रखकर घर की बुलेरो वाहन क्रमांक एमपी 22 बीए 0218 से भाई नंदकिशोर को कटंगी अम्बामाई के जंगल सिवनी-कटंगी मेनरोड लेकर पहुंचा। जहां पेशाब करने के बहाने उतरने के बाद जब भाई नंदकिशोर पेशाब कर रहा था, इस दौरान ही मैने पत्थर से सिर पर हमला कर दिया। जिससे उसकी मौत हो गई। जिसके बाद उसके मोबाईल को अपने पास रखकर उसकी सिम और बैटरी को घर के खेत में लगी धान की फसल पर फेंक दिया और मोबाईल को अपने कमरे में छिपाकर रख दिया।

गौरतलब हो कि इस मामले में मृतक नंदकिशोर ठाकरे के पिता भीमसेन ठाकरे ने घटना दिन को नंदकिशोर को अपने साथ ले जाने वाले उसके साथियों और गांव के दो लोगो पर संदेह जाहिर किया था, लेकिन उन्हें नहीं पता था कि उनका खून ही उनके खून की हत्या का आरोपी है।

बहरहाल कटंगी पुलिस ने सिवनी जिले के बरघाट अंतर्गत मानेगांवकला वार्ड नंबर बारापत्थर टोला निवासी आरोपी 24 वर्षीय विशाल पिता भीमसेन ठाकरे से हत्या में प्रयुक्त बुलेरो वाहन, पत्थर, मृतक का मोबाईल एवं कपड़ो को बरामद कर लिया है। आरोपी विशाल ठाकरे को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने माननीय न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे न्यायिक रिमांड पर जेल भिजवा दिया गया है।

घटना के लगभग 25 दिन बाद कटंगी पुलिस ने अंधे हत्याकांड का खुलासा करते हुए बड़े भाई की हत्या में लिप्त आरोपी छोटे भाई को गिरफ्तार करने में वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन और एसडीओपी जे.एन. मरकाम के निर्देशन पर कटंगी थाना प्रभारी श्रीनाथ झरवड़े के नेतृत्व में उपनिरीक्षक धनसिंह धुर्वे, सायबर सेल प्रधान आरक्षक सोमेन्द्र डहरवाल, प्रधान आरक्षक उमेश पंचेश्वर, राधेश्याम गायधने, सतीश गेडाम, तरूण सोनेकर, आरक्षक जयपाल पटले, पुनीत बघेल, सुजेन्द्र बघेल, राकेश कुल्हाड़े, कृष्णकुमार बघेल, अनुराग गिरी, हेमंत बघेल, नरेन्द्र, ओमप्रकाश, श्रीधर, परसु, सतपाल, पप्पु, दीनु बघेल, दीनदयाल राहंगडाले, रूद्र नारायण, योगेश वैष्णव, शिवप्रसाद धुर्वे, महिला आरक्षक दीपिका देशमुख, सिंधु भलावी, राधिका और वर्षा की भूमिका सराहनीय रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here