पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में मारे गए झामसिह धुर्वे के परिवार से मिलने पहुंचे आयुष मंत्री कावरे,दिए मामले में जांच निर्देश

बालाघाट, सुनील कोरे। 6 सितंबर को बालाघाट के गढ़ी थाना क्षेत्र अंतर्गत बसपहरा के जंगल में पुलिस और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले के झलमला थाना अंतर्गत बालसमुंद निवासी ग्रामीण लगभग 50 वर्षीय झामसिह धुर्वे की मौत हो गई थी। जिसको लेकर सर्व आदिवासी समाज ने विगत दिनों गढ़ी मुख्यालय में बड़ी बैठक कर पुलिस एवं नक्सली मुठभेड़ को फर्जी बताते हुए छत्तीसगढ़ सीमा में प्रवेश कर बेकसूर आदिवासी ग्रामीण झामसिंह धुर्वे की हत्या किये जाने का आरोप लगया था। साथ ही मामले में सीबीआई की जांच कराने की मांग की थी।

MP Breaking News

वहीं मृतक परिवार को एक करोड़ रूपये का मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को नौकरी दिये जाने और सर्चिंग पार्टी के खिलाफ अपराधिक मामला दर्ज किये जाने की मांग की थी। जिसके बाद जिला प्रशासन ने जहां मामले की जांच के लिए मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए है। वहीं घटना के एक सप्ताह बाद मृतक झामसिंह धुर्वे के परिजनों से मिलने सोमवार को मध्य प्रदेश शासन के आयुष एवं जल संसाधन मंत्री रामकिशोर कावरे ग्राम देवगांव पहुंचे, जहां उन्होंने मृतक झामसिंह धुर्वे के परिवार को तात्कालिक सहायता के रूप में एक लाख रूपये का चेक प्रदान किया ओर परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का भरोसा दिलाया।

उल्‍लेखनीय है कि विगत 6 सितंबर को यह मुठभेड़ हुई थी। पुलिस ने 7 सितंबर को घटना स्थल बसपहरा के जंगल से झामसिंह धुर्वे की लाश बरामद की थी। झामसिह की मौत पुलिस या नक्सलियों के गोली से हुई है अभी तक स्पष्ट नहीं है। इस मामले की मजिस्ट्रेट जांच हो रही हैं। दूसरी ओर इस मामले में परिवार एवं आदिवासी समाज में नाराजगी है और वह नौकरी और एक करोड़ के राशि मुआवजा दिए जाने की मांग कर रहे है। इसी के चलते प्रदेश सरकार के आयुष मंत्री जल संसाधन मंत्री रामकिशोर कावरे पीड़ित परिवार से मिलने के लिए उनके गांव देवगांव पहुंचे थे।

MP Breaking News

मंत्री कावरे ने मामले की मजिस्ट्रियल जांच के निर्देश देते हुए मामले में पीड़ित पक्ष को शासन स्तर से और भी मदद दिलाने का भरोसा दिया है। उन्होंने कहा कि घटनाक्रम में जो भी तथ्य है, उसमें जो भी दोषी होंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। आगे उन्होंने  कहा कि पीड़ित परिवार से मंत्री नहीं बल्कि प्रदेश की सरकार मिलने पहुंची थी और हमारा प्रयास है कि इस पीड़ित परिवार को न्याय मिले और इसी के चलते उन्होंने ग्रामीणों सहित समाज की जो भी चिंता या शिकायत है उसके निराकरण के लिए भी एसपी एवं कलेक्टर को दिशा निर्देश दिए गए हैं।

इस दौरान पूर्व विधायक रमेश भटेरे, भगत सिंह नेताम, मौसम हरिनखेड़े, कलेक्टर दीपक आर्य, पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी, अपर कलेक्टर फ्रेंक नोबल ए, जिला पंचायत सीईओ उमा महेश्वरी, एसडीएम गुरु प्रसाद सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here