बालाघाट, सुनील कोरे। शहर में मादक पदार्थ गांजा की आमजन की बढ़ती लत और विक्रय की सूचना को गंभीरता से लेते हुए वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में कोतवाली पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर गत मादक पदार्थ गांजा के व्यवसाय में लिप्त दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। साथ ही उन्हें गांजा की सप्लाई करने वाले महाराष्ट्र गोंदिया के बसंत नगर निवासी सप्लायर को भी गिरफ्तार किया है। कोतवाली पुलिस ने शहर में गांजा व्यवसाय करने वाले वार्ड क्रमांक 10 पुराना मटन मार्केट निवासी आरोपी फिरोज पिता मेहताब खान से 6 किलोग्राम और दर्री तालाब निवासी कमलेश पिता बुद्धराम बर्वे से 5 किलो 500 ग्राम गांजा बरामद किया है।

मामले में सीएसपी कर्णिक श्रीवास्तव ने प्रेस को बताया कि पुलिस को लगातार मुखबिर से सूचना मिल रही थी कि शहर में मादक पदार्थ गांजा का विक्रय कर आमजन को नशे की लत लगाई जा रही है, जिसके बाद वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में कोतवाली थाना प्रभारी मंशाराम रोमड़े के नेतृत्व में टीम गठित की गई। मुखबिर द्वारा दी गई सूचना के आधार पर शहरी क्षेत्र में गांजा विक्रय कर रहे फिरोज खान और कमलेश बर्वे के पास से 11 किलो 500 ग्राम गांजा बरामद किया गया। जिसकी अनुमानित कीमत लगभग 1 लाख 15 हजार रूपये है। सीएसपी श्रीवास्तव ने बताया कि आरोपी आदतन है, जो पूर्व में भी अपराध में लिप्त रहे है। जिनसे पूछताछ में आरोपियों को गांजा सप्लाई करने वाले गोंदिया के बसंत नगर निवासी गोविंद पिता रामलाल अग्रवाल को मादक पदार्थ गांजा की सप्लाई मामले में गिरफ्तार किया गया है। जिनके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट 8/20 के तहत अपराध कायम कर जांच में लिया गया है।

मादक पदार्थ के सप्लाई और विक्रय में गिरफ्तार किये गये सभी तीनो आरोपियों को पुलिस ने आज 23 सितंबर को न्यायालय में पेश किया, जहां से उन्हें कोविड-19 की जांच के बाद न्यायिक रिमांड पर जेल भिजवा दिया गया है। आरोपियों को मादक पदार्थ गांजा के साथ गिरफ्तार करने में कोतवाली थाना प्रभारी मंशाराम रोमड़े, उपनिरीक्षक संदीप चौरसिया, विकास यादव, प्रधान आरक्षक भूमेश्वर वामनकर, राजीव जाचक, महिला प्रधान आरक्षक सत्यशीला वासनिक, आरक्षक शैलेष गौतम, गजेन्द्र माटे, यशवंत अगासे, दारासिंह बघेल, रामकुमार रावेट, रवि चौरिया, सूरज बरकड़े, सुरेन्द्र पारधी और महिला आरक्षक दुर्गा बघेल का योगदान सराहनीय रहा।