बालाघाट: बाघ के हमले से हुई युवक की मौत

इस दौरान युवक कमलेश का बाघ से सामना हुआ जिसके चलते वह घबराहट में भागने लगा। उसके पीछे दौडे़ बाघ ने थोड़ी ही दूरी पर उस पर हमला कर दिया।

बालाघाट, सुनील कोरे। बालाघाट (balaghat) में 2 जून की दोपहर 12 से 2 बजे के बीच वनविभाग (forest department) के लालबर्रा परिक्षेत्र के बहियाटिकुर बीट के कक्ष क्रमांक 443 में जंगल में गये एक युवक पर बाघ ने हमला (tiger attack) कर दिया। जिससे गंभीर रूप से घायल युवक की मौत (death) हो गई। बताया जा रहा है कि परसवाड़ा थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम चिनी निवासी 24 वर्षीय कमलेश पिता राजेन्द्र प्रसाद बिलोने अपने तीन अन्य साथियों बोरी निवासी 21 वर्षीय सुरेन्द्र पिता मोवालाल बावने, बल्हारपुर निवासी 22 वर्षीय विनोद पिता बलराम मड़ावी और चंगेरा निवासी 19 वर्षीय अतुल पिता किशोर मेश्राम के साथ जंगल में लकड़ियां लाने गया था।

यह भी पढ़ें… Indian Railways: यात्रीगण कृपया ध्यान दें.. पटरी पर दौड़ेंगी ये पैसेंजर ट्रेनें, कई के समय में बदलाव

इस दौरान युवक कमलेश का बाघ से सामना हुआ जिसके चलते वह घबराहट में भागने लगा। उसके पीछे दौडे़ बाघ ने थोड़ी ही दूरी पर उस पर हमला कर दिया। जहां बाघ हमला करने के बाद उसे छोड़कर जंगल की ओर चला गया। बाघ का हमला इतना जोरदार था कि युवक वहीं गिर गया। बाघ को देखकर भागे साथियों ने जंगल पहुंचकर युवक को बाहर सड़क तक लाया। घटना की जानकारी मिलने पर पहुंची डायल 100 की मदद से घायल युवक को लालबर्रा अस्पताल लाया गया। जहां उसकी मौत हो गई।बताया जा रहा है कि युवक कमलेश, बहियाटिकुर निवासी अपनी बहन के घर आया था। आज साथियों के साथ जंगल में लकड़ी लाने गया था। इस दौरान जंगल के ज्यादा अंदर प्रवेश कर जाने से जंगल में मूवमेंट कर रहे बाघ ने उस पर हमला कर दिया।

यह भी पढ़ें… ‘गेट ए शॉट, हैव ए बियर’ Joe Biden ने वैक्सीनेशन दर बढाने का दिया नया फॉर्मूला

इस मामले की जानकारी मिलने के बाद वनविभाग ने प्रारंभिक सहायता के रूप में दी जाने वाली सहायता राशि परिजनों को दी है। जबकि वन्यप्राणी बाघ के हमले से मौत पर मिलने वाली 4 लाख रूपये की सहायता राशि परिजनों को प्रदान की जायेगी। घटना के बाद वनविभाग की टीम ने जंगल से लगे समीपस्थ गांवो पर मुनादी कर ग्रामीणों को जंगल में न जाने की समझाइश दी है।