बालघाट में मिले 8 नए कोरोना पॉजिटिव, संक्रमितों की सख्या 74 पहुंची

बालाघाट। सुनील कोरे| जिले में कोरोना की बीमारी थमने का नाम नही ले रही। रोजाना ही कोरोना पॉजिटिव मरीजो के मिलने का सिलसिला अनवरत रूप से जारी है। सोमवार को जिले में कोरोना का बम फटा और एक ही दिन में 8 कोरोना पॉजिटिव मिले है। जिससे जिले में कोरोना संक्रमित मरीजो की संख्या बढ़कर 74 हो गई है। जिसमे एक्टिव कोरोना पाजेटिव मरीजों की संख्या 23 है।

आज 20 जुलाई को प्राप्त कोरोना संदिग्ध मरीजों के सेंपल की रिपोर्ट के अनुसार 08 और मरीज कोरोना पॉजिटिव पाये गये है। कोरोना पाजेटिव पाये गये इन आठों मरीजों को उपचार के लिए डेडीकेटेड कोविड केयर सेंटर गायखुरी बालाघाट में भर्ती करा दिया गया है। जबकि प्रोटोकाल के तहत चार मरीजों को ठीक होने पर डिस्चार्ज कर दिया गया है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ मनोज पांडेय ने बताया कि आज 20 जुलाई को बालाघाट जिले के संदिग्ध कोरोना मरीजों में से 08 मरीजों के सेंपल कोरोना पाजेटिव पाये गये है। इनमें एक मरीज बैहर की स्वास्थ्य विभाग की कर्मचारी है जो कोविड ड्यूटी में तैनात थी। दूसरा मरीज 06 वर्ष का एक बालक है जो अपनी माता के साथ 14 जुलाई को बैंगलोर से उकवा-सोनपुरी आया है। उसकी माता 19 जुलाई की रिपोर्ट में कोरोना पाजेटिव पायी गई है। दो कोरोना पाजेटिव मरीज मलाजखंड के है जो पूर्व में पॉजिटिव पाये गये मरीज के सम्पर्क में आये थे। एक मरीज चिचगांव बिरसा व दो मरीज दमोह-बिरसा के है, जो कोरोना पॉजिटिव पाये गये है। यह तीन मरीज दमोह की महिला जो उपचार के लिए रायपुर गई थी और वहां पर उसकी मृत्यु हो गई है, उसके सम्पर्क में आये थे। रायपुर उपचार के लिए गई दमोह की महिला की मृत्यु होने के बाद उसकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आयी थी। एक मरीज परसवाड़ा तहसील के लिंगा का है जो पूर्व में कोरोना पॉजिटिव आये मरीज के सम्पर्क में आया था।
डॉ पांडेय ने बताया कि शासन के प्रोटोकॉल के अनुसार डेडीकेटेड कोविड केयर सेंटर गायखुरी बालाघाट में भर्ती कोरोना पाजेटिव मरीजों से 04 मरीजों के ठीक हो जाने पर उन्हें आज 20 जुलाई को डिस्चार्ज कर दिया गया है। इस प्रकार जिले में उपचार के लिए डेडीकेटेड कोविड केयर सेंटर गायखुरी बालाघाट में भर्ती कोरोना पाजेटिव मरीजों की संख्या 23 हो गई है। बालाघाट जिले में इस प्रकार बालाघाट अब तक कुल 74 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए जा चुके हैं। इसमें से 51 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं और 23 मरीजों का उपचार किया जा रहा है।