मप्र-छग की सीमा पर सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, बंदूक, बारूद और छर्रे बरामद

बालाघाट। सुनील कोरे| Balaghat News..मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) और छत्तीसगढ़ (Chattisgarh) सीमा से लगे लांजी थाना क्षेत्र टेमनी चौकी अंतर्गत मोहन खोदरा गांव में सुबह सुरक्षाबलों और नक्सलियों (Naxalites) के बीच लगभग आधा घंटे तक मुठभेड़ (Encounter) चली। जिसमें नक्सलियों की ओर से किये गये फायरिंग के जवाब में हॉकफोर्स के जवानों ने भी जवाबी फायरिंग की। सुरक्षाबलों के बढ़ते दबाव को देखते हुए नक्सली भाग गये। घटनास्थल से सुरक्षाबलों ने नक्सली सामग्री के साथ ही एक 12 बोर की भरमार बंदूक, बारूद और छर्रे बरामद किये है। बताया जाता है कि इंटर स्टेट इस ऑपरेशन में बालाघाट पुलिस के अलावा नक्सली उन्मूलन में लगे हॉकफोर्स के जवान और राजनांदगांव पुलिस भी शामिल थी।

पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी ने घटनास्थल से नक्सली वेपन मिलने पर आशंका जाहिर की है कि इस मुठभेड़ में किसी एक नक्सली के आहत होने की संभावना है। हालांकि जब तक इस बारे में कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिल जाती, तब तक कुछ भी कहना अभी संभव नहीं है। उनकी मानें तो सुरक्षाबलों और नक्सलियों की मुठभेड़ के बाद जंगलो में फरार नक्सलियों की तलाश के लिए चार और अतिरिक्त पार्टियांे को सर्चिंग पर भेजा गया है। इस घटना के बाद जिले के सभी थाना और चौकियों में हाईअलर्ट पर रहने के निर्देश दिये गये है।

आधा घंटे चली मुठभेड़, बंदूक, बारूद और छर्रे बरामद
मिली जानकारी अनुसार लांजी थाना क्षेत्र के देवरबेली और टेमनी में तैनात नक्सली उन्मूलन में लगे हॉकफोर्स की टीम सर्चिंग कर रही थी। इस दौरान ही सुरक्षाबलों को 3 से 4 नक्सली दिखाई दिये। जिनके तरफ सुरक्षाबल के जवान बढ़ रहे थे कि आहट मिलते ही नक्सलियों ने सुरक्षाबलों को निशान बनाते हुए उन पर फायरिंग करना शुरू कर दिया। जिस पर हॉकफोर्स ने भी नक्सलियों की फायरिंग का जवाब देते हुए जवाबी फायरिंग की। इस दौरान लगभग आधा घंटे चली मुठभेड़ के बाद नक्सली वहां से फरार हो गये। जिसके बाद सुरक्षाबलों ने घटनास्थल से नक्सली सामग्री के साथ ही बंदूक, बारूद और छर्रे बरामद किये है। बताया जाता है कि सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच चली मुठभेड़ के दौरान नक्सलियों की ओर से 15 राउंड फायरिंग की गई। जवाब में भी सुरक्षाबलों की ओर से भी नक्सलियों को करारा जवाब दिया गया।
नक्सलियों की तलाश, सर्चिंग पार्टियां रवाना
मुठभेड़ के बाद जंगलो में भागे नक्सलियों की तलाश के लिए सर्चिंग टीम के अलावा चार और सर्चिंग पार्टियां रवाना की गई है। इसके अलावा आमने-सामने की मुठभेड़ में करारा जवाब देकर नक्सलियों को भागने पर मजबूर करने वाले सुरक्षाबलों की टीम भी लगातार जंगलो में सर्चिंग कर रहे है। बताया जाता है कि सुरक्षाबलों पर हमला करने वाले नक्सली टांडा दलम के थे। जिनके हाथो में अत्याधुनिक हथियार इंसास रायफल को भी देखा गया है। यह भी जानकारी मिली है कि टांडा दलम के साथ अन्य नक्सली संगठन दर्रेकसा दलम के भी नक्सलियों साथ है। जिनकी संख्या लगभग 25 से 30 बताई जा रही है। बहरहाल घटना के बाद सभी सुरक्षाबल के जवान सुरक्षित है और जंगलो में नक्सलियों की तलाश के लिए चारों ओर से जंगलो में सुरक्षाबल के जवान सर्चिंग कर रही है।

इनका कहना है
लगातार लांजी क्षेत्र के टेमनी चौकी अंतर्गत मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ सीमा पर नक्सलियों के होने की सूचना मिल रही थी। जिसके बाद इंटर स्टेट एक ऑपरेशन लांच किया गया था। जिसमें बालाघाट पुलिस के अलावा हॉकफोर्स के जवान और राजनांदगांव पुलिस भी शामिल थी। आज सुबह सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच लगभग आधा घंटे मुठभेड़ के बाद नक्सली भाग गये है। घटनास्थल से सुरक्षाबलों को नक्सली सामग्री के अलावा एक भरमार बंदूक मिली है। जिससे आशंका है कि नक्सली संगठन का कोई एक नक्सली आहत हुआ है। नक्सली को घेरने के लिए सुरक्षाबलों की चार पार्टियों को सर्चिंग के लिए रवाना किया गया है। सभी पुलिस और सुरक्षाबल के जवान सकुशल है।
-अभिषेक तिवारी, पुलिस अधीक्षक