मारपीट मामले में पूर्व सांसद गिरफ्तार,पत्नी ने पुलिस प्रशासन पर लगाया बदसलूकी का आरोप

बालाघाट/सुनील कोरे

पूर्व सांसद और विधायक कंकर मुंजारे को शनिवार सुबह खैरलांजी थाना अंतर्गत गुनई रेतघाट में मारपीट मामले के आरोप में पुलिस ने उनके घर आजाद चौक से गिरफ्तार कर लिया। बताया जाता है कि पुलिस पूर्व सांसद को अंडर गारमेंट पहने हुए हालात में ही घर से उठाकर ले गई। इस मामले में उनकी पत्नी और महिला नेत्री  अनुभा मुंजारे ने गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस पर अभद्रता करने सहित और कई गंभीर आरोप लगाया है और कहा है कि ये दिन काला दिवस के रूप में याद किया जाएगा।

गौरतलब है कि खैरलांजी थाना क्षेत्र के गुनई रेतघाट में 25 जून को रेतघाट कर्मी अजय पिता शंकरलाल लिल्हारे के साथ मारपीट मामले में खैरलांजी पुलिस ने शिकायत पर आरोपी पूर्व सांसद एवं विधायक कंकर मुंजारे के अलावा इंदु लिल्हारे, अजय उर्फ छोटू लिल्हारे और गुड़ु उर्फ खेमराज नगपुरे सहित अन्य के खिलाफ धारा 147, 148, 294, 323, 327, 506 के तहत अपराध कायम किया था। जिसमें पुलिस ने घटना दिनांक को ही आरोपी अजय उर्फ छोटू लिल्हारे को गिरफ्तार कर लिया था, जबकि गुड्डू उर्फ खेमराज नगपुरे को महाराष्ट्र के गंगाझरी थाने के ढकनी से गिरफ्तार किया था और शनिवार को पूर्व सांसद और विधायक कंकर मुंजारे को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

100 से ज्यादा पुलिस अधिकारी और जवान सुबह-सुबह पहुंचे घर
खैरलांजी में दर्ज मामले में पुलिस ने भारी-भरकम फौज के साथ पूर्व सांसद एवं विधायक कंकर मुंजारे के आजाद चौक स्थित आवास में पहुंची। जहां दरवाजा बंद होने से पड़ोस की बिल्डिंग से पुलिसकर्मी उनके बेडरूम में पहुंचे। वहां से पुलिस ने कंकर मुंजारे को गिरफ्तार किया। इस दौरान बेडरूम में मौजूद उनकी पत्नी और पूर्व नपाध्यक्ष अनुभा मुंजारे ने महिला पुलिसकर्मियों द्वारा अभद्रता किये जाने और खींचतान किये जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस ने निजता का हनन कर कुख्यात अपराधी की तरह पूर्व सांसद एवं विधायक कंकर मुंजारे की गिरफ्तारी की है। जिसके लिए सुबह से ही 100 से ज्यादा पुलिसकर्मी मौजूद थे।

गिरफ्तारी के बाद पूर्व सांसद और विधायक को मिली जमानत
पूर्व सांसद एवं विधायक कंकर मुंजारे को खैरलांजी थाना में दर्ज अपराध में गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने पूर्व सांसद कंकर मुंजारे को वारासिवनी न्यायालय प्रथम श्रेणी न्यायाधीश सनोडिया की अदालत में पेश किया गया। जहां  न्यायालय ने 10 हजार रुपए की जमानत पर उन्हें रिहा कर दिया है।

इनका कहना है-

कंकर मुंजारे की पत्नी व पूर्व नपाध्यक्ष अनुभा मुंजारे ने कहा है कि जब कंकर मुंंजारे प्रेसवार्ता कर रहे थे, तब तक पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया। वे लगातार रेत के अवैध उत्खनन के खिलाफ आवाज उठा रहे थे। जिनकी आवाज को दबाने के लिए साजिशपूर्वक उनके खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गलत तरीके से गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार करने से पूर्व कोई सूचना नहीं दी गई और फिर कुख्यात अपराधी की तरह पूर्व सांसद एवं विधायक कंकर मुंजारे को गिरफ्तार किया गया। जिस तरह से उन्हें गिरफ्तार किया है, उससे सरकार, जिला और पुलिस प्रशासन को शर्म आना चाहिये। पुलिसकर्मी निजता का हनन कर मेरे बेडरूम में घुसकर पति कंकर मुंजारे को अंडर गारमेंट में गिरफ्तार कर ले गये। इस दौरान पुलिसकर्मी मेरा मोबाईल भी उठा ले गये है। जिसकी कोई जानकारी उन्हें नहीं दी गई।

सीएसपी बालाघाट सुमित केरकट्टा का कहना है कि खैरलांजी में दर्ज मामले में आरोपी बनाये गये कंकर मुंजारे को गिरफ्तार किया गया। जिसके लिए विधिवत प्रक्रिया का पालन किया गया। पुलिस द्वारा किसी प्रकार से कोई अभद्रता नहीं की गई। पुलिस पर लगाये जा रहे आरोप निराधार और झूठे है। प्रतिबंधात्मक कार्यवाही के तहत कंकर मुंजारे को एसडीएम कार्यालय में पेश किया गया। जिसके बाद उन्हें न्यायालय में पेश किया गया।