बालाघाट, सुनील कोरे। कान्हा टाइगर रिजर्व (Kanha National Park) के अंतर्गत दिनांक 18 से 21 फरवरी तक द्वितीय पक्षी सर्वेक्षण किया जा रहा है। यह पक्षी सर्वेक्षण कार्य कान्हा टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक सुनील कुमार सिंह के निर्देशन एवं वाइल्डलाइफ एंड नेचर, इंदौर की संस्था के सहयोग से कराया जा रहा है। इसके पूर्व पक्षी सर्वेक्षण कार्य वर्ष 2017 में किया गया था। पक्षी सर्वेक्षण के पहले दिन 18 फरवरी को खटिया ईको-सेंटर में प्रतिभागियों को सर्वेक्षण के नियम बताये गये।

ये भी देखिये- धरने पर बैठे कांग्रेस विधायक, किसान नेताओं की रिहाई की मांग, दी ये चेतावनी

बफर उप संचालक नरेश सिंह यादव द्वारा प्रतिभागियों को कान्हा के बारे में जानकारी दी गई। संस्था के सदस्य सुरेंद्र बागड़ा ने बताया कि इस सर्वेक्षण कार्य में स्वयंसेवकों का बहुत अधिक संख्या में आवेदन मिले। जिनके अनुभव के आधार पर देश के 11 राज्यों से 85 पक्षी विशेषज्ञ को चुना गया हैं। पक्षी सर्वेक्षण का मुख्य उद्देश्य प्रवासी और स्थानीय पक्षियों की गणना करना है। इस तरह के सर्वेक्षण से पक्षियों के बारे में अधिक जानकारी इकट्ठा करना है। उनके प्राकृतिक आवास, व्यवहार में कोई बदलाव आदि का अध्ययन करना है। कान्हा के पार्क अधीक्षक सुधीर मिश्रा ने बताया कि सर्वेक्षण में 2 से 3 समूह को कान्हा टाइगर रिजर्व के अलग-अलग स्थानों पर भेजा जायेगा और लाइन ट्रांजेक्ट विधि से सर्वेक्षण किया जायेगा। इस तरह के सर्वेक्षण से विभाग को पक्षियों के आंकड़ों को एकत्रित करने में सहायता मिलती है तथा निष्कर्ष के अनुसार पक्षियों के संरक्षण के लिए योजना तैयार की जा सकेगी। कार्यक्रम का संचालन बफर जोन सहायक संचालक सुनील कुमार सिन्हा द्वारा किया गया।