निर्दलीय विधायक ने बनाई निर्दलीय परिषद सरकार, पढ़े पूरी खबर

प्रदेश में पहला मामला, नपाध्यक्ष सरिता और उपाध्यक्ष प्रीती के रूप में महिला नेतृत्व

बालाघाट, सुनील कोरे। प्रदेश में यह पहला मामला होगा। जहां निर्दलीय विधायक (independent mla) ने अपने दम पर परिषद का बहुमत के लिए 10 निर्दलीय वार्ड पार्षदों को जीताकर लाया और भाजपा के ऑपरेशन लोटस अभियान को फेलकर निर्दलीय परिषद सरकार (independent council government) बनाई। वारासिवनी क्षेत्र की वर्षों राजनीति में अपना डंका बजाते आ रहे निर्दलीय विधायक और प्रदेश सरकार को समर्थन देने पर बनाये गये खनिज निगम अध्यक्ष प्रदीप जायसवाल ने लगातार दो बार कांग्रेस में रहकर परिषद पर अपने समर्थकों को बैठाया और निर्दलीय विधायक होने के बाद भी निर्दलीय पार्षदों को परिषद अध्यक्ष और उपाध्यक्ष की कुर्सी तक पहुंचाकर, अपने टाईगर जिंदा है का सबूत दिया।

यह भी पढ़े…UPSC NDA, NA II Admit Card 2022 : जारी किए यूपीएससी ने एनडीए एग्जाम के एडमिट कार्ड, ऐसे करें डाउनलोड

सबसे खास बात यह है कि वारासिवनी नगरपालिका अध्यक्ष पद पर मरार समाज की महिला सरिता दांदरे और एससी समाज की प्रीति शिव को उपाध्यक्ष पद पर बैठालकर, महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के साथ ही अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष पद पर महिलाओं को आसीन किया है। 10 अगस्त को नगरपालिका परिषद के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष की निर्वाचन प्रक्रिया पीठासीन अधिकारी एसडीएम के.सी. बोपचे की उपस्थिति में प्रारंभ की गई। जिसमें निर्दलीय विधायक गुड्डा समर्थक सरिता दांदरे और भाजपा की ओर से रीतु आलोक खरे प्रत्याशी थी। जिसमें सरिता दांदरे को 10 मत और भाजपा की रीतु आलोक खरे को 5 मत मिले। जिसमें अध्यक्ष के लिए सरिता दांदरे निर्वाचित घोषित की गई। वहीं उपाध्यक्ष पद पर निर्दलीय प्रीती शिव ने भाजपा के प्रत्याशी आशुतोष कोहाड़ को 5 मतों से हराया। इसमें भी प्रीती शिव को 10 मत और आशुतोष कोहाड़ को 5 मत मिले। यहां भाजपा का ऑपरेशन लोटस फेल रहा।

यह भी पढ़े…अब पशुधन को मिलेगी बड़ी राहत, लम्पी रोग के लिए स्वदेशी वैक्सीन हुई लॉन्च

वारासिवनी नगरपालिका अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर समर्थित निर्दलीय प्रत्याशियों की जीत के बाद विधायक प्रदीप जायसवाल ने इसे नगर की जनता की दूरदर्शिता और जागरूकता की जीत बताते हुए कहा कि वारासिवनी नगर की जनता विकास के साथ है, उन्होंने कहा कि विकास ही हमारा मुख्य ध्येय है। अधोसंरचना मद में राशि लाकर विकास नगर का विकास कराय जायेगा।