पुलिस मुखबिरी के शक में नक्सलियों ने की युवक की हत्या,चेतावनी भरा पत्र मिला

Crime News

बालाघाट/सुनील कोरे

लांजी थाना क्षेत्र अंतर्गत नक्सल प्रभावित नेवरवाही के पास एक युवक का शव मिला जिसके सीने पर चोट के निशान थे। बताया जा रहा है कि नक्सलियों ने युवक पुजारीटोला निवासी 25 वर्षीय सोनु पिता चैतराम टेकाम की गोली मारकर हत्या कर दी। हालांकि पुलिस का कहना है कि संदिग्ध हालत में मिले युवक के शव के पीएम रिपोर्ट के बाद ही साफ हो पायेगा कि युवक को गोली लगी है कि नहीं।

युवक के शव के पास ही एक सफेद कागज में भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) का हस्तलिखित चेतावनी पत्र भी मिला है। जिसमें पार्टी ने स्वीकार किया है कि सोनु की मुखबिरी के कारण हत्या की गई है। पुलिस मुखबिर को चेतावनी देते हुए इस पत्र में लिखा गया है कि सोनु मुखबिर का काम करता था, इसलिए पीएलजीए, सोनु को मौत की सजा देता है। पत्र के माध्यम से पार्टी ने पुलिस मुखबिरी का काम करने वालों लोगों से मुखबिर को छोड़ने और जिंदगी का रास्ता पकड़कर, आम जनता में माफी मांगने और जनता के साथ मिलजुलकर रहने की बात कही है। पत्र में लिखा गया है कि मुखबिरी करने का रास्ता नहीं छोड़ने वाले को सोनु जैसी मौत की सजा मिलते रहेगी। इस पत्र को लेकर पुलिस का कहना है कि लगातार ग्रामीण, नक्सली विचारधारा से दूर जाकर विकास में सहयोग कर रहे हैं, इसलिए नक्सली ऐसी घटना को अंजाम देकर ग्रामीणों को डराने और डर का माहौल बना रहे हैं। पुलिस ने आम ग्रामीणों से अपील की है कि उन्हें डरने की आवश्यकता नहीं है। साहस और निडरता के साथ पुलिस को सूचना दे, ताकि वह नक्सली विचारधारा को खत्म करने में विजय प्राप्त कर सकें।

रविवार से लापता था युवक
लांजी के नेवरवाही और रायली कोड़ाप्पा के बीच पुजारीटोला निवासी सोनु पिता चैतराम टेकाम का शव जिसके सीने पर घाव के निशान थे। सूत्रों की मानें तो सोनु की हत्या नक्सलियों द्वारा पुलिस की मुखबिरी करने के संदेह में गोली मारकर कर दी गई। बताया जाता है कि सोनु हैदराबाद में काम करता था, जो लॉक डाउन के बाद विगत 25 दिन पहले में हैदराबाद से पैदल चलकर घर आया था। बीते रविवार को उसे नक्सलियो द्वारा घर से उठाकर ले जाया गया था। जिसके बाद उसका शव मंगलवार सुबह नेवरवाही के पास मिला है। संदेह जताया जा रहा है कि नक्सलियों द्वारा संगम सदस्य बनाकर काम करने युवक से कहा होगा, जिसमें युवक द्वारा मना किये जाने पर, नक्सलियों ने काम नहीं करने के चलते उसकी गोली मारकर हत्या कर कर दी। पुलिस ने युवक के नक्सली मुखबिर होने से इंकार किया है। बहरहाल लांजी पुलिस ने घटना की जानकारी मिलने के बाद युवक का शव बरामद कर लांजी अस्पताल में युवक के शव का पीएम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया है। बताया जाता है कि युवक को काफी पास से गोली मारी गई है। हालांकि पीएम के बाद ही पता चलेगा कि मारी गोली, किस बंदूक से चलाई गई है।

इनका कहना है
नेवरवाही के पास युवक का संदिग्ध हालत में शव मिला है। जिसके शव को पुलिस द्वारा बरामद कर लिया गया है, जिसमें चोट के निशान मिले है। मामले की पूरी विवेचना की जा रही है। युवक का चोट कैसे पहुंचाई गई, यह पीएम रिपोर्ट के बाद ही पता चल पायेगा। जिले में लगातार ग्रामीण नक्सली विचारधारा से दूर होकर विकास में सहयोग कर रहे है। नक्सलियों की यह घटना ग्रामीणों को प्रताड़ित करने की है, जो ग्रामीणों में डर का माहौल पैदा करना चाहते है, लेकिन ग्रामीणों को डरने की आवश्यकता नहीं है, ग्रामीण, नक्सलियों के खिलाफ साहस और निडरता का परिचय दें।
अभिषेक तिवारी, पुलिस अधीक्षक

पुलिस मुखबिरी के शक में नक्सलियों ने की युवक की हत्या,चेतावनी भरा पत्र मिला