व्यावसायिक लाभ के लिये पंचायत पति कर रहे थे शासकीय भवन का दुरूपयोग, रद्द हो सकता है लायसेंस

बालाघाट/सुनील कोरे

वारासिवनी क्षेत्र के ग्राम मेंहदीवाड़ा सरपंच कल्पना कुंभारे के नाम से फूड लायसेंस लेकर सरपंच पति किशोर कुंभरे शक्कर का थोक व्यवसाय करते हैं। जिसके लिए विधिवत तौर से उन्होंने जीएसटी पंजीयन भी कराया है, लेकिन खुद के व्यवसायिक उपयोग के लिए शासकीय भवन के दुरूपयोग के मामले में वह पकड़े गये। जिसके बाद तहसीलदार प्रीति चौरसिया ने बड़ी मात्रा में रखी गई शक्कर की बरामदगी के साथ ही परिसर को सील कर दिया है।

इस मामले में प्रशासन जहां स्वयं के व्यवसायिक उपयोग के लिए शासकीय भवन के दुरूपयोग का प्रकरण कायम कर रहा है तो वहीं खाद्य औषधि विभाग ने शक्कर की जांच के लिए सैंपल लिया है और शासकीय भवन में व्यवसाय का संचालन करने के मामले में खाद्य एवं औषधि विभाग उसके लायसेंस को सस्पैंड करने की कार्यवाही में जुट गया है।

जानकारी के अनुसार मेंहदीवाड़ा सरपंच कल्पना कुंभारे के नाम से फूड लायसेंस लेकर उसके पति किशोर कुंभारे शक्कर का थोक व्यवसाय करते है। जिनके द्वारा विक्रय के लिए लगभग 780 बोरी शक्कर मंगवाई गई थी। जिसमें 700 बोरी शक्कर पंचायत भवन में और 80 बोरी शक्कर पंचायत द्वारा बनाये गये काम्पलेक्स के एक भवन में रखी गई थी। जिसकी शिकायत मिलने के बाद तहसीलदार प्रीति चौरसिया और खाद्य सुरक्षा अधिकारी निरीक्षक योगेश डोंगरे मंगलवार को मेंहदीवाड़ा पहुंचे और पंचायत भवन एवं पंचायत काम्पलेक्स भवन में रखी गई शक्कर को बरामद कर काम्पलेक्स भवन को सील कर दिया है। बताया जाता है कि सरपंच पति किशोर कुंभारे द्वारा स्वयं के व्यवसाय के उपयोग से मंगाई गई शक्कर को शासकीय संपति का दुरूपयोग करते हुए उसे पंचायत भवन और काम्पलेक्स के भवन में रखा गया था। पंचायत काम्पलेक्स में एक भवन के लीज की बात कहने वाले सरपंच पति के पास उससे संबंधित कोई कागजात नहीं थे जिससे उसे सील कर दिया गया है।

इनका कहना है
ग्रामीणों से शिकायत मिली थी कि मेंहदीवाड़ा सरपंच पति द्वारा खुद के व्यापार के लिए पंचायत भवन और पंचायत काम्पलेक्स के एक भवन का दुरूपयोग किया जा रहा है। जिसके चलते शक्कर को बरामद करने के साथ ही पंचायत काम्पलेक्स के भवन को सील कर दिया गया है। मामले में अग्रिम कार्यवाही के लिए प्रतिवेदन एसडीएम महोदय के समक्ष पेश किया जायेगा। प्रथमदृष्टया यह शासकीय भवन के दुरूपयोग का मामला है। जिसमें अग्रिम कार्यवाही वरिष्ठ अधिकारी महोदय द्वारा ही की जायेगी।
प्रीति चौरसिया, तहसीलदार, वारासिवनी

फूड का लायसेंस कल्पना कुंभारे के नाम से है, जिसके लायसेंस पर उनके पति किशोर कुंभारे द्वारा शक्कर का थोक व्यवसाय किया जाता है। जिनके पास जीएसटी का पंजीयन भी है। चूंकि पंचायत भवन में शक्कर को रखे जाने से वह शासकीय भवन के दुरूपयोग का मामला है। वहीं जिस पंचायत काम्पलेक्स के एक भवन को वह लीज पर बता रहे है, उसके संबंध में भी उनके पास कोई कागजात नहीं पाये गये है। शासकीय भवन से खुद के व्यापार के लिए कोई लायसेंस नहीं दिया जाता है। जिससे उनके लायसेंस को सस्पैंड करने की कार्यवाही की जायेगी। वहीं शक्कर के सैंपल लिये गये है। जिसे जांच के लिए भेजा जायेगा।
योगेश डोंगरे, खाद्य सुरक्षा अधिकारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here