दो नाबालिगों की नदी में डूबने से दर्दनाक मौत, अपने दोस्तों के साथ गए थे नहाने

बालाघाट/सुनील कोरे। एक दुखद हादसे में वैनगंगा नदी में डूबने से दो नाबालिग की मौत हो गई। लॉक डाउन के दौरान जहां लोगों का घरों से निकलना मना है, वहीं गुरूवार को सात दोस्त सागौन वन के पास नजदीक वैनगंगा नदी के घाट पर नहाने पहुंच गये। यहां नहाते समय दो नाबालिग बच्चों की डूबने से मौत हो गई। इनके अन्य साथी सकुशल है। नहाने गये सभी साथी नगर के गंगानगर, ढिमरटोला और गौली मोहल्ला, गढ्ढा मोहल्ला निवासी बताये जा रहे है। साथ गये राज सुखदार ने बताया कि वह सभी यहां घूमने आये थे, तभी नहाने नदी में उतरे दो साथी गहरे पानी में डूब गये।

जानकाीर के मुताबिक 2 अप्रैल की दोपहर लगभग 3 बजे सभी सातों दोस्त सिद्धार्थ मोंगरे, योगेश राऊत, राज सुखदार, सुजल राऊत, सुमित वानखेड़े, छोटु और लल्ला, वैनगंगा नदी के घाट में नहाने गये थे। नहाने के दौरान नदी में कुछ लोग पानी के अंदर थे जबकि अन्य  बाहर कपड़े उतार रहे थे। तभी उनमें से एक दोस्त घाट के पास पानी की गहराई देखने उतरा, इस दौरान ही वह डूबने लगा। उसे बचाने गया उसका दूसरा साथी भी गहरे पानी में डूब गया जिससे उसकी भी मौत हो गई।  17 वर्षीय सिद्धार्थ और 17 वर्षीय योगेश के शव को पुलिस ने गोताखोरो की मदद से नदी से बाहर निकाला गया।

दोनों के परिजनों को घटना की जानकारी मृतकों के साथ नहाने गये साथियों ने दी। जिसके बाद परिजनों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। इसके बाद तहसीलदार, नपा सीएमओ और कोतवाली थाना प्रभारी विजयसिंह परस्ते घटनास्थल पहुंचे और गोताखोरों की मदद से नदी में डूबे बालकों के शव को खोजा गया।