मंगेतर और युवती की अंतरंग विडियो बनाने वाले तीन आरोपी गिरफ्तार

बालाघाट। सुनील कोरे। Balaghat news विगत 30 अप्रैल को मंगेतर और युवती के खेत में मिलने के दौरान अंतरंग विडियो बनाकर उसे व्हाट्सअप (Whatsapp) में वायरल करने वाले तीन आरोपियों को वरिष्ठ पुलिस अधिकारियो के मार्गदर्शन एवं निर्देशन में एसडीओपी नितेश भार्गव के नेतृत्व में गठित पुलिस टीम लांजी द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है।

घटनाक्रम के अनुसार 9 मई को व्हाट्सअप ग्रुप में मंगेतर के साथ युवती के अंतरंग विडियो वायरल होने के बाद युवती द्वारा इसकी शिकायत थाने में करते हुए बताया कि स्वेच्छा से वह अपने मंगेतर के साथ खेत में मिली थी। इस दौरान तीन अज्ञात लड़को ने उनके अंतरंग विडियो बना लिये, जब लड़को द्वारा विडियो बनाते नजर उन पर पड़ी तो, उसने लड़को को रोका लेकिन वह भाग गये। जिसके बाद मंगेतर के साथ बनाये गये उसके अंतरंग विडियो को लड़को द्वारा व्हाट्सअप ग्रुप पर वायरल कर दिया गया। जिससे उसे सामाजिक रूप से शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा। जिसकी शिकायत पर लांजी पुलिस ने तीन अज्ञात लड़को के खिलाफ धारा 354 सी,34 भादंवि। एवं 67ए आईटी एक्ट के तहत प्रकरण विवेचना में लिया था।

मामले की गंभीरता को देखते हुए वरिष्ठ अधिकारियों को मामले की जानकारी दी गइ। जिसके बाद वरिष्ठ अधिकारी आईजी के।पी। व्यंकटेश्वरराव, पुलिस उपमहानिरीक्षक अनुराग शर्मा के मार्गदर्शन और पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रतिपालसिंह महोबिया द्वारा एसडीओपी नितेश भार्गव के नेतृत्व में पुलिस थाना लांजी की टीम गठित कर अज्ञात आरोपियों की पतासाजी के लिए दिशा निर्देश दिये गये। जिसकी विवेचना कर रही पुलिस टीम को मुखबिर से सूचना मिली कि ग्राम सिहारी के तीन लड़को द्वारा मंगेतर और युवती के अंतरंग विडियो व्हाट्सअप ग्रुप में शेयर किये गये है। जिसके बाद पुलिस ने मुखबिर के बताये अनुसार तीन लड़को को अभिरक्षा में लेकर पूछताछ की। जिन्होंने पूछताछ पर मंगेतर और युवती के अंतरंग विडियो बनाकर उसे व्हाट्सअप ग्रुप में शेयर करने का अपराध स्वीकार किया। जिसमें आरोपी लड़को द्वारा विडियो बनाने और ग्रुप में विडियो को शेयर करने में प्रयुक्त किया गया मोबाईल फोन पुलिस ने बरामद कर लिया है।
शिनाख्ती के बाद होंगे आरोपी के नाम उजागर
मामले की जांच कर रही पुलिस ने बताया कि मंगेतर और युवती के अंतरंग विडियो बनाकर व्हाट्सअप ग्रुप में शेयर करने वाले तीन आरोपियों के नाम गुप्त रखे गये है। जिनकी युवती द्वारा शिनाख्ती किये जाने के बाद नामों को उजागार किया जायेगा। सुरक्षा के लिहाज से आरोपियों के नाम का खुलासा, पुलिस ने मामले के खुलासे के दौरान नहीं किया गया है।
इनकी रही सराहनीय भूमिका
मंगेतर और युवती के अंतरंग विडियो बनाकर, उस विडियो को व्हाट्सग्रुप के माध्यम से शेयर कर युवती की सामाजिक प्रतिष्ठा को आंच पहुंचाने वाले अज्ञात तीन आरोपियों को वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में गिरफ्तार करने में एसडीओपी नितेश भार्गव, लांजी थाना निरीक्षक संतोष पंद्रे, उपनिरीक्षक अजय जाट, राकेश बघेल, हॉकफोर्स जवान विनय गोस्वामी, प्रधान आरक्षक उमेश मिश्रा, आरक्षक विरेन्द्रसिंह और आरक्षक मनीजरसिंह की भूमिका सराहनीय रही।

इनका कहना है
मंगेतर और युवती के अंतरंग विडियो बनाकर, उस विडियो को व्हाट्सग्रुप के माध्यम से शेयर कर युवती की सामाजिक प्रतिष्ठा को आंच पहुंचाने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। सुरक्षा के लिहाज से उनके नामो का खुलासा नहीं किया गया है। आरोपियों ने स्वीकार किया है कि उन्होंने ही विडियो बनाकर उसे व्हाट्सग्रुप पर शेयर किया था। जिनके पास से प्रयुक्त एंड्राएड मोबाईल भी बरामद किया गया है। आरोपियों के खिलाफ तकनीकि साक्ष्य उपलब्ध होने से पुलिस को उन्हें गिरफ्तार करने में सफलता मिली है।
-नितेश भार्गव, एसडीओपी, लांजी