गांधीजी के स्वच्छता हथियार को प्रधानमंत्री ने बनाया वरदान- प्रहलाद पटेल

उन्होंने भाजपा कार्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री और देश के प्रधानमंत्री के रूप में उनके 20 साल में किये गये कार्यो की उपलब्धि का खूब बखान किया।

बालाघाट, सुनील कोरे। देश की आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर 20 साल के अपने कार्यकाल में देश को खुले में शौच से मुक्ति दिलाने जो प्रण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने किया था, जिसका किसी को क्या पूरी दुनिया को विश्वास नहीं था। उस दिशा में शौचालय का निर्माण खुले में शौच से मुक्ति का लक्ष्य हमने 11 साल पहले ही प्राप्त कर लिया। जिससे मुझे लगता है कि गांधी जी ने आंदोलन में जिस स्वच्छता को हथियार बनाया था। उसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वरदान बनाने का काम किया है। यह बात भाजपा कार्यालय में आयोजि प्रेसवार्ता में केन्द्रीय राज्यमंत्री प्रहलाद पटेल (Prahlad Patel) ने कही।

यह भी पढ़ें…प्रेमी के साथ पकड़ी गई नाबालिग़ प्रेमिका का कुछ घंटों बाद घर मे मिला शव, हत्या या आत्महत्या पुलिस जुटी जांच में

5 अक्टूबर को केन्द्रीय राज्यमंत्री प्रहलाद पटेल, आजादी के अमृत महोत्सव और सेवा ही समर्पण महाभियान के बालाघाट (Balaghat) में आयोजित बुद्धिजीवी संगोष्ठी में वक्ता के रूप में शामिल होने पहुंचे है। बुद्धिजीवी संगोष्ठी के पहले उन्होंने भाजपा कार्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री और देश के प्रधानमंत्री के रूप में उनके 20 साल में किये गये कार्यो की उपलब्धि का खूब बखान किया।

भाजपा कार्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में आयुष मंत्री रामकिशोर कावरे, भाजपा जिलाध्यक्ष रमेश भटेरे, पूर्व जिलाध्यक्ष रमेश रंगलनी, पूर्व सांसद के.डी. देशमुख एवं भाजपा युवा नेत्री मौसम हरिनखेड़े मौजूद थे। यहां प्रेसवार्ता में केन्द्रीय राज्यमंत्री प्रहलाद पटेल ने कहा कि गुजरात के मुख्यमंत्री तथा देश के प्रधानमंत्री के रूप में लगातार 20 वर्षों का कार्यकाल जनता के आशीर्वाद से पूरा होने जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी के 20 साल का कार्यकाल देश के लिए बेमिसाल है। देश को ऐसा प्रेरणादायी नेतृत्व मिला है, जिसका भाजपा अनुशरण करेगी। उनके कार्यकाल में किसी भी सेक्टर फिर वह सेवा, सुरक्षा, विकास के अलावा किसी भी क्षेत्र में हम उनकी उपलब्धि का बखान कर सकते है। उनका आतंकवाद से निपटने का तरीका पूरा देश जानता है। देश की आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर उन्होंने सोचा था कि गरीब के सिर पर पक्की छत होगी, जिसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना संचालित की। महिलाओं के नाम पर गैस कनेक्शन की सोच को लेकर उज्जवला योजना प्रारंभ की, जो आज 10 करोड़ लोगों को मिले है, अब सीएनजी गैस देने की तैयारी हो रही है। हर घर बिजली का सपना देखा तो जिसके पास पैसे नहीं थे, उसके लिए भी पैसे खर्च कर गरीब को बिजली उपलब्ध करवाई। गरीबों के स्वास्थ्य के बारे में सोचा को 5 लाख तक स्वास्थ्य सुविधा देने के लिए आयुष्मान योजना संचालित की। अब हर घर नल से जल की दिशा में कार्य हो रहे है, जिसे पूरे देश में आगामी 2024 तक पूरा कर लिया जायेगा। जिसमें कुछ राज्य तेलंगाना, गोवा, अंडमान निकोबार और पांडिचेरी में 2021 में ही इसे पूर कर लिया है, जबकि कुछ राज्यों में 2022 और कुछ राज्यो में 2023 तक पूरा कर लिया जायेगा। जबकि 2024 में केवल अपग्रेडेशन होगा।

केन्द्रीय राज्यमंत्री पटेल ने कहा कि सरकार का कहना बड़ा साफ है, जल को लेकर केवल विकास ही नहीं बल्कि स्त्रोत और क्रियान्वयन भी महत्वपूर्ण है, जिसमें मातृशक्ति को अधिकार देने का काम सरकार कर रही है, पानी समिति में 50 फीसदी महिला होगी और वही इसका संचालन करेगी। जहां पानी की उपलब्धता नहीं है या जहां पानी जम जाता है, वह भी स्त्रोत का पता कर घर-घर तक जल पहुंचाने का काम किया जाना है। जिसका सारा अधिकार महिलाओं को होगा। सेवा के इन कार्यो से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने करके साबित कर दिया है कि सेवा ही समर्पण हमारा संकल्प है।

किसानों को लेकर किये गये सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि यह सरकार किसान हितैषी सरकार है, कभी किसी सरकार ने किसानों को सीधे पैसा नहीं डाला, यह सरकार किसानों के खाते में सीधा पैसा डाल रही है। कृषि का लागत का डेढ़गुना किसानों को मिल रहा है। समर्थन मूल्य को बढ़ाया जा रहा है, यूरिया कि कभी किल्लत होती थी, लेकिन आज नहीं है, देश में सिंचाई का रकबा बढ़ा है। उन्होंने कहा कि बेरोजगारी केवल देश की नहीं बल्कि दुनिया की समस्या है, लेकिन समग्रता से विकास पर नजर दौड़ाये तो हम पाते है कि स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर सरकार ने काफी प्रयास किये है, कोरोना कॉल में ऑक्सीजन की कमी को भांपत हुए सभी जिलो में ऑक्सीजन प्लांट लगाये गये। सौ करोड़ से ज्यादा लोगों का वैक्सीनेशन (vaccination) हो गया है। कोरोना में भारत एक ऐसा देश बनकर उभरा है, जिसने विश्व के देशो को दवाई पहुंचाने का काम किया है। बंटवारा समग्रता में होता है। लखीमपुर खीरी के मामले में कहा कि सरकार ने कार्रवाई की हैं। प्रदेश में उपचुनाव को लेकर सभी सीटो में भाजपा (BJP) की जीत का दावा किया।

उज्जवला योजना के सवाल को पचा गये मंत्री पटेल
प्रेसवार्ता के आरंभ में केन्द्रीय राज्यमंत्री प्रहलाद पटेल ने मोदी सरकार के गुजरात मुख्यमंत्री और देश के प्रधानमंत्री रहते हुए किये गये कार्यो की तारीफो के जमकर पुल बांधे। उन्होंने कहा कि वे एक ऐसे प्रधानमंत्री है, जिन्होंने कभी अवकाश नहीं लिया। ईश्वर की कृपा से स्वास्थ्य की दृष्टि से भी उन्हें कभी अवकाश लेने की नौबत नहीं आई। सार्वजनिक जीवन में काम करने वाले व्यक्ति को यदि कुछ मांगना चाहिये तो यही मांगना चाहिये। उन्होंने कहा कि उपहार से लगाव और मोह होता है लेकिन मोदी ने देश के भीतर और बाहर मिले उपहार को लेकर विधिवत आचरण करते हुए उसे सेवा कार्यो में समर्पित कर दिया। देश की आबादी की 50 फीसदी मातृशक्ति की चिंता करते हुए महिला सुरक्षा जैसा श्रेष्ठ मॉडल आजादी के बाद कोई प्रधानमंत्री और व्यक्ति नहीं दे सका, जो उन्होंने दिया। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ की शुरूआत हरियाणा से की, जहां लिंगानुपात कभी एक हजार पुरूषो में 837 महिलाओं का हुआ करता था, वह आज बढ़कर 920 महिलाओं तक पहुंच गया है। जिसे नरेन्द्र मोदी के सेवा और समर्पण कार्यो ने कर दिखाया है।

उन्होंने चिन्नौर में बालाघाट को मिले जियो टेग की सराहना करते हुए कहा कि जिस जिले का चिन्नौर, राष्ट्रपति जी तक पहुंचा हो, उस जिले के चिन्नौर को जिया टेग मिलना, बहुत बड़ी उपलब्धि है, इसका लाभ जिले के किसानों को मिलेगा। महिलाओं के लिए 10 करोड़ उज्जवला कनेक्शन को लेकर मोदी सरकार की तारीफ तो की लेकिन महंगी गैस के चलते उसके कम हो रहे उपयोग के सवाल को बिना जवाब दिये, जवाब दिया कहकर पचा गये।

यह भी पढ़ें…जबलपुर डबल मर्डर केस : मां-बेटी की हत्या कर जमीन में दफनाया, पुलिस जांच में जुटी