प्रदेश में विदेशी पटाखों की बिक्री पर लगा प्रतिबंध, नियम तोडऩे पर लायसेंस होगा निरस्त

दिपावली त्यौहार पर पटाखा बाजार पूरी तरह से सज कर तैयार है। लेकिन खरबरदार.. अगर आप विदेशी पटाखे बेचते हुए पकड़ाए तो आपकी खैर नहीं।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। दिपावली (Diwali) त्यौहार पर पटाखा बाजार (Cracker market) पूरी तरह से सज कर तैयार है। लेकिन खरबरदार.. अगर आप विदेशी पटाखे बेचते हुए पकड़ाए तो आपकी खैर नहीं। प्रशासन ने विदेश पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए कमर कस ली है। यदि कोई भी व्यापारी विदेशी पटाखे बेचते हुए पकड़ा गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाई करते हुए तत्काल लायसेंस निरस्त कर दिया जाएगा। किसी भी दुकान पर केवल मेड इन इंडिया पटाके और आतिशबाजी की सामग्री बेची जाएगी।

दरअसल दिपावली के समय बाजार में चीनी पटाखों की भरमार रहती थी। यह पटाखे पर्यावरण के लिए भी नुकसान दायक होते थे। इनसे ध्वनि और वायु प्रदूषण की संभावना अधिक होती थी। लेकिन अब जब देश में आत्मनिर्भर होने और स्थानीय उत्पाद को बढ़ावा देने पर जोर है, ऐसे में भारत सरकार के वाणिज्य मंत्रालय ने राज्य सरकारों को विदेशी पटाखों पर प्रतिबंध को लेकर निर्देश जारी किए थे। जिसको लेकर प्रदेश का गृह मंत्रालय सख्त है और बाजार में विदेशी पटाखों की बिक्री प्रतिबंधित कर दिया है। इसके लिए गृह सचिव ने सभी जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षकों को निर्देश जारी कर दिया है, जिसमें विदेशी पटाखों की बिक्री पर सख्ती से रोक लगाने के निर्देश दिए है। प्रशासन को विदेशी पटाखे सहित पोटेशियम नाइट्रेट से बने पटाखों को जब्त करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही ई-कामर्स कंपनियों से विदेशी पटाखे मंगाने वालों पर भी नजर सख्त नजर रहेगी। भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि गृह मंत्रालय के निर्देशों का सख्ती से पालन किया जाएगा। पटाखों के लाइसेंस जारी करते समय विक्रेताओं को भी इस संबंध में जानकारी दी जाएगी। वहीं हाल ही में सभी व्यापारियों के साथ एक बैठक कर इन्हें सख्त हिदायत भी दी गई है कि वे विदेशी पटाखों का विक्रय न करें।

जांच के लिए टीम का गठन
प्रशासन ने विदेशी पटाखे की बिक्री पर नजर रखने के लिए एक टीम तैयार की है। यह टीम दुकानों पर जाकर पटाखों की जांच करेगी और इसके सैंपल भी लेगी। जांच में विदेशी पटाखा पाए जाने पर दुकान संचालक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा यह टीम विदेशी पटाखों के अवैध भंडारण, पटाखा गोदामों का आकस्मिक निरीक्षण भी करेगी। इतना ही नहीं प्रशासन व्यापारियों से शपथ पत्र भी भरवा रहा है कि वे विदेशी पटाखा नहीं बेचेंगे।