बड़वानी कलेक्टर ने नोडल अधिकारी को मंच से किया निलंबित, ग्रामीणों को पेसा अधिनियम की जानकारी न देने का आरोप

Barwani News : मध्यप्रदेश के बड़वानी में कलेक्टर ने नोडल अधिकारी को मंच से निलंबित कर दिया। ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि उनपर आरोप था कि वो ग्रामीणों को पेशा एक्ट की जानकारी नहीं दे रहे हैं। दरअसल, कलेक्टर शिवराज सिंह वर्मा शनिवार को ग्राम बोकराटा पहुंचे थे। जहां उन्होंने ग्रामीणों को पेसा एक्ट की जानकारी दी और कहा कि अब से गांव का पटवारी ग्रामसभा में आकर खसरा, बी-वन का वाचन करेगा। साथ ही, नक्शा शुद्धिकरण के बारे में भी बताएगा। वहीं, बोकराटा गांव के नोडल अधिकारी को भी निलंबित कर दिया।

कारण बताने का दिया निर्देश

कलेक्टर शिवराज सिंह वर्मा ने ग्राम बोकराटा पहुंचे थे। जहां पेसा एक्ट कानून के तहत शासन के निर्देशानुसार 5 से 7 दिसम्बर तक जागरूकता अभियान एवं ग्रामसभा का आयोजन किया जाना था लेकिन नोडल अधिकारी ने ऐसा नहीं किया।जिसकी जानकारी लगते ही मध्यप्रदेश सिविल सेवा नियम 1966 के नियम 9 के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। निलंबन अवधि में इनका मुख्यालय विकासखण्ड ठीकरी नियत किया गया है। इसके अलावा सचिव को एक सूचना पत्र जारी करते हुए कारण बताने का निर्देश दिया है। साथ ही, संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि ऐसे नोडल अधिकारियों की जानकारी संकलित कर उनके खिलाफ कार्रवाई प्रस्तावित की जाए।

नशामुक्ति एवं स्वच्छता की दिलवाई शपथ

इसी दौरान कलेक्टर वर्मा ने ग्रामीणों को नशामुक्ति एवं स्वच्छता की शपथ भी दिलवाई। ग्रामीणों को नशा के दुष्प्रभाव बताएं। साथ ही, स्वच्छता का महत्व भी बताया और उन्हें प्रेरित किया कि नशे को छोड़े एवं स्वच्छता को अपनाये।
शिविर में प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश आनंद कुमार तिवारी, डीएफओ बड़वानी एसएल भार्गव, जिला पंचायत सीईओ अनिल कुमार डामोर, विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव अमित सिसोदिया सहित बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे। वहीं, शिविर में कलेक्टर ने पेसा अधिनियम की जानकारी देते हुए बताया कि, अगर किसी ग्रामीण को अपने राजस्व रिकार्ड में किसी प्रकार का संशोधन कराना हो तो वह इसकी जानकारी ग्रामसभा को देगा। ग्रामसभा प्रस्ताव पारित कर, एसडीएम को भेजेगी। जिसके पश्चात् रिकार्ड में संशोधन हो जायेगा। अब ग्रामीणों को शासकीय कार्यालयों के चक्कर नही लगाने पडेंगे बल्कि ग्रामसभा के पास ही जाना होगा।

आधार केन्द्र का भी किया निरीक्षण

जिसके बाद कलेक्टर ने गांव में आधार केन्द्र का भी निरीक्षण किया। इस दौरान केन्द्र पर भारी भीड़ जमा होने से कलेक्टर ने आधार केन्द्र संचालक से जानकारी प्राप्त की। आधार केन्द्र संचालक ने बताया कि नवीन आधार कार्ड बनाने के साथ-साथ अपडेशन एवं संशोधन के लिए भी ग्रामीणजन केन्द्र पर आये है। जिसके बाद कलेक्टर ने आधार केन्द्र संचालक को निर्देशित किया कि वे नियमित रूप से आधार केन्द्र खोले और ग्रामीणों को आधार केन्द्र की सुविधा का लाभ दें, जिससे उन्हें परेशानियों का सामना ना करना पड़े।