यहां डॉक्टर गणेश करते हैं अपने वाहन मूषक का उपचार, आकर्षण का केंद्र बनी प्रतिमा

कोरोना काल में डाक्टरों के द्वारा लोगों की जिंदगी बचाने के कारण इस प्रतिमा को अनूठा स्वरूप दिया गया है।

बैतूल, वाजिद खान। बैतूल शहर के टिकारी क्षेत्र में डॉक्टर के रूप में मूषक का उपचार करते हुए श्री गणेश की प्रतिमा आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। कोरोना संक्रमण के दौर में मरीजों की जिंदगी बचाने के लिए डाक्टरों ने जिस तरह से अपनी जान जोखिम में डालकर सेवा दी है उससे सभी के मन में यह भाव आ गया है कि वे भगवान के दूत बनकर आए थे। इसी भावना को देखते हुए बैतूल के टिकारी में श्री गणेश की डाक्टर के स्वरूप की आकर्षक प्रतिमा स्थापित की गई है।

ये भी पढ़ें- नदी पर नहाने गई 8 साल की मासूम तेज बहाव में बही, रेस्क्यू टीम ने निकाला शव

कोरोना संक्रमण के लिए लोगों को जागरूक करने का अनूठा प्रयास सिद्धि विनायक गणेश उत्सव समिति टिकारी के सदस्यों के द्वारा किया गया है। डाक्टरों द्वारा पहने जाने वाले सफेद कोट(एप्रिन),धारण किए हुए श्री गणेश की कुर्सी पर बैठी प्रतिमा बेहद आकर्षक है। श्री गणेश के स्टेथिस्कोप की मदद से अपने वाहक मूषक के ह्दय की धड़कन सुनते हुए नजर आ रहे हैं। उनके आसपास विभिन्न प्रकार की दवाएं, चिकित्सा उपकरण और आसपास की दीवारों पर लगे विभिन्न बीमारियों से बचाव का संदेश देते कैलेंडर किसी क्लीनिक का अहसास करा रहे हैं। उनके ठीक सामने बड़ी बोर्ड लगा हुआ है जिस पर संदेश लिखा हुआ है दो गज दूरी, मास्क है जरूरी।

सिद्धि विनायक गणेश उत्सव समिति के सदस्य ने बताया कि हर वर्ष विभिन्न स्वरूप में श्री गणेश की प्रतिमा स्थापित कर पूजा अर्चना की जाती है। इस बार कोरोना की दूसरी लहर की भयावहता और डाक्टरों के समर्पण को देखते हुए श्री गणेश को ही चिकित्सक के स्वरूप में विराजित करने का निर्णय लिया गया था। कोरोना संक्रमण के दौर में लोग जिंदगी बचाने के लिए डाक्टर को भगवान का दर्जा दे रहे थे। इसी संदेश को आम जन तक पहुंचाने के लिए डाक्टर के स्वरूप में प्रतिमा की स्थापना कर कोरोना जागरूकता का संदेश पहुंचाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रतिदिन आरती के दौरान भी लोगों को सुरक्षित दूरी, मास्क पहनने और टीकाकरण के लिए प्रेरित किया जा रहा है।