बैतूल, वाजिद खान। बैतूल में जिला अस्पताल में लंबे समय से स्वास्थ्य सेवाओं और प्रशासनिक कसावट के लिए काम करते रहे सिविल सर्जन के अचानक कोरोना पॉजिटिव (corona positive) आने से यहां अस्पताल में हड़कम्प मच गया है। कोरोना वैक्सीन (corona vaccine) के दो डोज़ लगने के बाद भी वे संक्रमित हो गए हैं। प्रशासन ने भी इसे गंभीरता से लिया है। इसके बाद कलेक्टर अमनबीर सिंह ने एसपी सिमाला प्रसाद और सीईओ एमएल त्यागी के साथ जिला अस्पताल का दौरा कर यहां की व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस ने अस्पताल में बिना मास्क घूमते पाए जाने पर दो सौ रुपये जुर्माना वसूलने के निर्देश दिए। सिविल सर्जन के कोविड वैक्सीन के दो डोज लेने के बावजूद संक्रमित हो जाने से फैली भ्रांति को दूर करने सीएमएचओ ने एक बयान जारी कर वस्तुस्थिति से अवगत कराया। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. डब्ल्यूए नागले ने आमजन से अपील की है कि कोविड वैक्सीनेशन (vaccination) पूर्णत: सुरक्षित है। इसके संबंध में किसी तरह की भ्रांति मन में न पालें। उन्होंने बताया कि 4 मार्च को जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. अशोक बारंगा कोविड पॉजिटिव आए हैं। उनको 16 जनवरी को पहला एवं 22 फरवरी को कोरोना वैक्सीन का द्वितीय डोज लगा था। कोविड वैक्सीन के 14 दिन बाद शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता पूर्ण रूप से विकसित होती है, उनको यह संक्रमण 10 दिन बाद ही हुआ है, इसलिए कोविड वैक्सीन से भ्रमित होने की आवश्यकता नहीं है। कोविड वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है।