बोले BJP सांसद- शोले के रहीम चाचा जैसी हो गई है कांग्रेस

Betul सांसद ने कहा कि आजादी के बाद सर्वाधिक शासन कांग्रेस ने किया है। उस कालखंड में चेचक, मलेरिया, पोलियो, प्लेग, चिकनगुनिया जैसी अनेक बीमारियां इनके कालखंड में हुई है।

बैतूल, डेस्क रिपोर्ट राजनीति में एक पार्टी द्वारा दूसरी पार्टी और उसके नेताओं पर आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला जारी रहता है। वहीं कोरोना काल जैसी गंभीर स्थिति में नेताओं की अनुपस्थिति पार्टियों के लिए बड़ा मुद्दा बन कर सामने आती है। इसी बीच Betul सांसद ने कांग्रेस सहित विपक्षी पार्टियों की स्थितियों पर बड़ा बयान दिया है। हरदा के सांसद डीडी उईके ने कांग्रेस और बाकि विपक्ष की स्थितियों की तुलना प्रसिद्ध चरित्र फ़िल्म अभिनेता एके हंगल से करते हुए कहा है कि वे कुछ करते नही, कुछ किया नही। कोरोना काल मे गायब रहे। सांसद ने कांग्रेस पर उसके शासन के दौरान विभिन्न बीमारियों की दवा उपलब्ध न कराने का भी आरोप लगाया है।

कोरोना महामारी पर संसद में नियम 193 के तहत अपने अभिभाषण में सांसद उइके ने जहां PM Modi की जमकर तारीफ की। वही कोरोना से लड़ने में सरकार के प्रयासों के खूब कसीदे पढ़े। सांसद ने गुरुवार लोकसभा में सभापति श्री राजेन्द्र अग्रवाल की मौजूदगी में आने साढ़े पांच मिनट के अभिभाषण में कहा कि चर्चा के दौरान पक्ष विपक्ष ने अपने विचार रखे। कुछ सुझाव प्रेरक, अनुकरणीय भी है। कुछ तो हमारे विपक्षियों ने झूठ के पुलिंदे प्रस्तुत किये है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में देश को महामारी से सुरक्षित निकालने में सफल हुए।

Read More: MP Board: स्कूल शिक्षा विभाग की तैयारी, 5वीं और 8वीं के छात्रों के लिए होगा बड़ा निर्णय

कांग्रेस को घेरा, दिया यह बयान

सांसद ने कहा कांग्रेस के जो मित्र हैं विपक्ष और कांग्रेस की स्थिति लगभग हमारा फिल्मी चरित्र अभिनेता ए के हंगल  की तरह है। कुछ करते तो है नहीं कुछ किया नहीं। उस कालखंड में राहुल गांधी विदेश यात्रा पर थे। कांग्रेसी व अन्य दल उस कालखंड में गायब थे। हमारे सुविचारित संगठन व अन्य दलों ने मिलकर देश के अंदर परिश्रम करके जनता की सेवा की। यह लोग जो आरोप लगा रहे हैं। उनको विचार करने की आवश्यकता है।

सांसद ने कहा कि आजादी के बाद सर्वाधिक शासन कांग्रेस ने किया है। उस कालखंड में चेचक, मलेरिया, पोलियो, प्लेग, चिकनगुनिया जैसी अनेक बीमारियां इनके कालखंड में हुई है। किंतु उस वक्त कोई दवाई उपलब्ध नहीं करा पाए। लेकिन सौभाग्य है कि 9 माह में वैक्सीन का निर्माण किया गया। दुनिया के लिए यह प्रशंसनीय है।  विरोधी मित्र आलोचना कर कुंठा का प्रदर्शन कर रहे।