शादीशुदा युवती के खरीद फरोख्त मामले में पुलिस ने किया बड़ा खुलासा, चार आरोपी गिरफ्तार एक फरार

Amit Sengar
Published on -
betul

Betul News : मध्य प्रदेश के बैतूल जिले से एक बड़ी खबर आ रही हैं जहां युवती को दो लाख रुपए में खरीदकर जबरन शादी करने के लिए कार में बिठाकर ले जाने का मामला सामने आया है। युवती ने चिल्लाकर लोगों को बताया और फिर लोगों ने कार रोककर पुलिस को सूचना दी पुलिस ने पांच लोगों पर मामला दर्ज कर चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ चौधरी के निर्देश पर एडिशनल एसपी कमला जोशी, एसडीओपी शालिनी परस्ते के मार्गदर्शन में बैतूल बाजार पुलिस ने यह कार्रवाई की हैं।

क्या है पूरा मामला

घटना बैतूल बाजार थाना क्षेत्र के बडोरा की है जहाँ 12 जनवरी को दोपहर दो बजे एक सफेद रंग की कार में युवती के चिल्लाने की आवाज सुनी तो लोगों ने कार रोककर पुलिस को सूचना दी। पीड़िता ने पुलिस को बताया कि 8 माह पूर्व उसकी शादी धनीराम से हुई थी उससे लड़ाई होने पर वह एक सप्ताह पहले बैतूल में सावित्री के घर पर रहने आ गई थी। पीड़िता ने आगे बताया कि सावित्री के घर से ही काम करने जाती थी तब ही उनके घर पर राजा टकला नामक व्यक्ति दीदी के घर पर आता जाता है जिसे मैं दो तीन महीने से जानती पहचानती हूँ दीदी के घर पर उनसे आमने सामने भी बात हुई है। 11 जनवरी को सावित्री दीदी के घर राजा आया था वह दीदी से बालाजीपुरम घूमने के लिये कह रहा था पर दीदी ने मना कर दिया और 12 जनवरी 2024 दोपहर 2 से 3 बजे राजा टकला और सोनम दीदी, सावित्री दीदी के घर आये और बोले बालाजीपुरम मंदिर बैतूल बाजार घूमने चलते हैं फिर सावित्री दीदी ने मुझे भी साथ चलने के लिये तैयार किया था। मैं, सावित्री दीदी और राजा टकला तीनों राजा टकला की बाइक से बालाजीपुरम मंदिर आये और सोनम अपनी स्कूटी से बालाजीपुरम पहुंची थी।

इन लोगों ने मंदिर के बाहर पार्किंग में मुझे और सावित्री को बैठा दिया सावित्री दीदी ने मुझे कोई बात नहीं बताई फिर राजा टकला व सोनम वहीं पर खडी सफेद रंग की कार वालों के पास गये और बात कर राजा टकला हम दोनों के पास आया और मुझे बोला कि तुम कार में बैठ जाओ, तो मैं कार में बैठ गई, मैं और सावित्री पीछे से आ रहे हैं, सोनम भी अपनी स्कूटी लेकर बैतूल की तरफ निकल गई थी फिर कार भी बैतूल की तरफ निकली, कार में ड्राइवर के अलावा दो आदमी भी मौजूद थे जो एक दूसरे से बात कर रहे थे और बोल रहे थे कि शादी करना है कपडे दिलाना है, गाडी मैं बैठे व्यक्ति ने अपना नाम दयाराम बताया था और बोले कि जो साथ में बैठा लडका अनिल है इससे तुम्हारी शादी कराना हैl अनिल को बोला कि लडकी को अच्छे से रखना और कपडे खरीदवा देना तो मैने बोली मैं शादीशुदा हूँ मुझे कहां ले जा रहे हो मुझे यहीं उतार दो तो अनिल बोलने लगा कि मैंने राजा टकला को दो लाख रुपया दिया हूँ तुमको मेरे साथ चलना पड़ेगा मैंने तुम्हे शादी करने के लिये खरीदा हूँ इतने में मैं चिल्लाई तो लोगों ने बडोरा रोड पर गाडी को रोका और वहां लोग इकठ्ठा हो गए फिर इतने में सोनम भी स्कूटी लेकर पहुंच गई l किसी ने पुलिस को सूचना दी तब पुलिस आ गई, मुझे समझ में आ गई कि मेरे साथ धोखा हुआ है, मेरे को बहला फुसला कर सोनम, राजा टकला, सावित्री एवं दयाराम ने मिलकर साजिश कर अनिल नाम के व्यक्ति को दो लाख रुपये में बेच दिया है, अनिल बोल रहा था कि मैने राजा उर्फ टकला को दो लाख रुपये दिया हूँ तुमको खरीद लिया हूँ तुमको शादी करना पडेगा।

बैतूल बाजार थाना प्रभारी बबिता धुर्व ने बताया कि पीड़िता की शिकायत पर सभी आरोपियों पर धारा 366, 370, 34 भादवि. 3(2)(va) एससी/एसटी एक्ट का मामला दर्ज कर चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है जिसमें राजा टकला पिता विष्णु उम्र 38 वर्ष निवासी अर्जुन वार्ड बैतूल, सोनम पिता गुलाब परमार उम्र 28 वर्ष निवासी अंबेडकर वार्ड टिकारी, सावित्री पिता रामशंकर अहाके उम्र 27 वर्ष  निवासी गौठना बैतूल, अनिल पिता रामसिंह लोधा उम्र 24 वर्ष निवासी रतलाम को गिरफ्तार किया है एक आरोपी दयाराम निवासी इंदौर फरार है जिसकी तलाश जारी है। घटना में प्रयुक्त सफेद रंग की अर्टिगा कार एमपी 09 DE 2951 और एक स्कूटी सहित एक मोटरसाइकिल बरामद की है साथ ही एक लाख तीस हजार रुपए भी जप्त किए है।

एसडीओपी शालिनी परस्ते ने बताया कि गिरफ्तार हुए चारों आरोपियों से पूछताछ की गई है जिसमें पता चला की आरोपी राजा टकला और सोनम एक दूसरे को जानते है वहीं ये दोनो इंदौर निवासी दयाराम और अनिल से भी लिंक है राजा और सोनम के कोतवाली थाने में पुराने रिकार्ड भी है इन सभी से और लोगों के जुड़े होने की संभावना है जांच जारी है।

बैतूल से वाजिद खान की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News