बैतूल : बडोरा मंडी में रखी हजारों बोरे मक्का बारिश से भीगा, व्यापारियों का हुआ नुकसान

मक्का गीली होने के बाद उसमें फंगस लग जाती है और बारदाना भी सड़ जाता है ।

बैतूल,वाजिद खान। बैतूल में शनिवार की देर रात बेमौसम बारिश होने के कारण किसानों और व्यापारियों की मुसीबत बढ़ गई है। कृषि उपज मंडी बडोरा के खुले प्रांगण में व्यापारियों के रखे हजारों बोरे मक्के के गीले हो गए ।

यह भी पढ़े… Damoh News: केंद्रीय मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने दमोह में किया कांग्रेस पर वार

बैतूल के बडोरा में कृषि उपज मंडी प्रांगण में खुले में रखे मक्के की बोरे बारिश से गीले हो गए हैं। इसमें कुछ किसानों के थे और ज्यादातर बोरे व्यापारियों के थे। बताया जा रहा है कि लगभग 30 हजार बोरे मक्के के गीले हो गए हैं जो कि व्यापारियों के थे। खरीद होने के बाद गोदाम में रखने के लिए ट्रांसपोर्ट की तैयारी थी लेकिन बारिश होने से अनाज मक्का गीली हो गई है। इससे बड़ा नुकसान हुआ है, क्योंकि मक्का गीली होने के बाद उसमें फंगस लग जाती है और बारदाना भी सड़ जाता है ।

यह भी पढ़े…डॉ मोहन भागवत का जबलपुर दौरा टला, बढ़ते कोरोना केस और खराब मौसम के चलते लिया फैसला

व्यापारी प्रमोद अग्रवाल का कहना है कि व्यापारियों के लिए मंडी प्रांगण में पर्याप्त सुविधा नहीं है जबकि 14 एकड़ की मंडी में 4 एकड़ में सब्जी मंडी लगने के कारण व्यापारियों और किसानों के लिए सिर्फ 10 एकड़ मंडी प्रांगण बचता है। सब्जी मंडी होने के कारण काफी दिक्कत हो रही है ट्रांसपोर्ट करने में भी दिक्कत हो रही है और रेक नहीं मिलने के कारण भी मक्का समय पर नहीं उठ पाता है। प्रशासन ने मंडी के जो शेड हैं उसमें किसानों का ही अनाज रखने की व्यवस्था की है। व्यापारियों का माल शेड के बाहर ही रखा जाता है। मंडी की व्यवस्था को लेकर किसी का ध्यान नहीं है।

यह भी पढ़े…MP College: शुरू हुई काउंसिलिंग की प्रक्रिया, छात्रों को 12 जनवरी 2022 तक करना होगा ये काम

किसान संतोष राठौर का कहना है कि वे 20 बोरे मक्का लाए थे लेकिन किन्हीं कारणों बस बेच नहीं पाए और वह गीली हो गई है। बारिश में ज्यादातर व्यापारियों की मक्का गिरी हुई है और उनका नुकसान ज्यादा हुआ है।

यह भी पढ़े…MP में BJP युवा मोर्चा के जिला अध्यक्षों की घोषणा, जबलपुर की इन्हें मिली जिम्मेदारी

मंडी निरीक्षक बीआर कापसे का कहना है कि मक्का की अच्छी आवक है और प्रतिदिन 30 हजार से ज्यादा बोरे की आवक होती है। शुक्रवार को किसानों की मक्का की तौल हो चुकी थी और शनिवार को मंडी बंद थी। मंडी प्रांगण में व्यापारियों की मक्का रखी थी जो बारिश के कारण भीग गई है। कुछ व्यापारियों ने चौकडे पर पॉलिथीन डाल रखी थी और जिन्होंने नहीं ढकी थी उनके मक्के के बोरे गीले हो गए हैं।