Betul News: सर्जरी के लिए जिला अस्पताल के डॉक्टर ने मांगे रुपए, परिजन ने वीडियो बनाकर कलेक्टर से की शिकायत, जांच जारी

कलेक्टर के आदेश के बाद सिविल सर्जन पूरे मामले की जांच कर रहे हैं। वहीं जांच के बाद ही कोई कार्रवाई करने के बात की जा रही है।

Betul

Betul News: मध्य प्रदेश में बैतूल जिला चिकित्सालय में पदस्थ सर्जन डॉ. प्रदीप धाकड़ एक बार फिर विवादों में घिर गए हैं। अबकी बार प्रदीप धाकड़ पर सर्जरी करने के लिए मरीज से पैसे लेने के आरोप लगे हैं, जिसका एक वीडियो भी सामने आया है। वहीं मरीज के परिजनों ने रिश्वत लेने के मामले में बैतूल कलेक्टर नरेंद्र कुमार सूर्यवंशी को वीडियो दिखाकर शिकायत भई की है। शिकायत को लेकर कलेक्टर ने सिविल सर्जन डॉ अशोक बारंगा को मामले की जांच के लिए कहा है।

डॉक्टर ने 5 हजार रुपए की मांग की

दरअसल, मरीज के परिजनों ने बताया कि जामगांव निवासी महिला को पेट में गांठ हो गई थी, जिसके इलाज के लिए डॉक्टर धाकड़ द्वारा पांच हजार रुपए मांगे जा रहे थे। इसके बाद परिजन ने डॉ. धाकड़ को 1700 रुपए देते हुए एक वीडियो बना लिया। करीब 1 मिनट 17 सेकंड के इस वीडियो में डॉ. धाकड़ ट्रामा सेंटर में दिखाई दे रहे हैं। इसमें एक ग्रामीण महिला पर्स से पैसे निकालते दिख रही है। वीडियो में डॉ. धाकड़ को 1700 रुपए देने की बात सामने आ रही है। फिलहाल कलेक्टर के आदेश के बाद सिविल सर्जन पूरे मामले की जांच कर रहे हैं। वहीं जांच के बाद ही कोई कार्रवाई करने के बात की जा रही है। आपको बता दें कि डॉक्टर प्रदीप धाकड़ पर पहले से ही कई मामलों में कानूनी जांच चल रही है।

Continue Reading

About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।