सवा करोड़ रुपये के गबन के आरोप में पूर्व क्रिकेटर नमन ओझा के पिता बैतूल से गिरफ्तार

टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर नमन ओझा के पिता वीके ओझा को बैंक ऑफ महाराष्ट्र की जौलखेड़ा शाखा में साल 2013 में फर्जी खाता खोलने और किसान क्रेडिट कार्ड से हुए लगभग सवा करोड़ रुपये के गबन के मामले में मुलताई पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

बैतूल, डेस्क रिपोर्ट। किसानों के नाम से फर्जी किसान क्रेडिट कार्ड (fake kisan credit card) बना कर लगभग सवा करोड़ रुपए की राशि का गबन करने वाले बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank Of Maharashtra) के तत्कालीन बैंक मैनेजर विनय ओझा  (Vinay Ojha arrested) को पुलिस ने बैतूल से गिरफ्तार कर लिया है, वी के ओझा जानेमाने क्रिकेटर नमन ओझा के पिता (naman ojha father fraud case) हैं।

यह भी पढ़ें…. मध्य प्रदेश चुनाव : पंचायत चुनाव की नामांकन प्रक्रिया खत्म, पंच पद के लिए नहीं दिखी रूचि

बताया जा रहा है कि बैंक आफ महाराष्ट्र की जौलखेड़ा शाखा में वर्ष 2013 में हुए लगभग सवा करोड़ रुपये का गबन का मामला सामने आया था जिसमें जांच के बाद तत्कालीन प्रबंधक वीके ओझा इस मामले में शामिल पाए गए थे, वीके ओझा पर धोखाधड़ी सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज किया गय था, केस दर्ज होने के बाद से ओझा फरार चल रहे थे। जिसकी पुलिस तलाश कर रही थी,वी के ओझा को को गिरफ्तार के बाद न्यायालय में पेश किया गया जहां से उन्हे एक दिन की रिमांड पर लिया गया है। मामलें में शामिल अन्य आरोपियों की पहले ही गिरफ़्तारी हो चुकी है।

यह था मामला

वर्ष 2013 में बैंक आफ महाराष्ट्र शाखा जौलखेड़ा में पदस्थ बैंक मैनेजर अभिषेक रत्नम, विनय ओझा सहित अन्य ने मिलकर फर्जी नाम और फोटो के आधार पर किसान क्रेडिट कार्ड बनाकर बैंक से राशि आहरित की थी, तरोड़ा बुजुर्ग निवासी दर्शन, पिता शिवलू की मौत होने के बाद भी उसके नाम से खाता खोलकर रुपए निकाल लिए गए थे, अन्य किसानों के नाम से भी किसान क्रेडिट कार्ड बनाकर लगभग सवा करोड़ रुपए की राशि आहरित की गई थी।