बैतूल, वाजिद खान। प्राचार्य, डॉक्टर, पार्षद, ख़ाकी और ब्लू गैंग की समझाइश से एक घर फिर बस गया। पति-पत्नी जो आपसी विवाद और मनमुटाव के बाद साल भर से अलग रह रहे थे, वो एक हो गए। अच्छी बात ये कि अक्सर अपने डंडे के लिये जानी जाने वाली पुलिस ने अपने फंडे से इस जोड़े की दुबारा शादी कराई।

चुनाहजूरी की झिंगो बाई पिछले कई दिनों से पति से अलग रह रही थी। पुलिस महिला सेल को शिकायत मिली थी कि उसका पति ट्रक ड्राइवर है और कई लड़कियों को घुमाता है। पत्नी ने शिकायत की कि जब मैं उससे कुछ कहती हूँ तो वो मुझे डंडे से मारता है और घर से बाहर निकाल देता है। वहीं इस मामले में पति का कहना था कि ड्राइवरी से वापस आने के बाद पत्नी उसपर फिजूल शक करती है और मुंह चलाती है, इसीलिए उनकी लड़ाई होती है।

इस मामले में ब्लू गैंग की 6 महिलाओं की टोली ने दोनों को अपने व्यावहारिक और पारिवारिक जीवन की कहानियाँ सुनाई, अपने अनुभव बांटे। दम्पति को समझाइश दी गयी, काउंसलिंग की गई और फिर और परिवार परामर्श समिति ने नोट शीट में दोनों की सहमति लिखी। इतनी मेहनत के बाद आखिरकार दोनों पक्ष सन्तुष्ट हुए और फिर से एक दूसरे का साथ रहने पर राज़ी हुए। पति-पत्नी की सहमति के बादर परिवार परामर्श समिति, महिला सेल प्रभारी एवं ब्लू गैंग के सामूहिक प्रयास से दोनों की सादगी से फिर से शादी कराई गई। दोनों ने एक दूसरे को वरमाला पहनाकर फिर से साथ रहने का वादा किया। इस मौके पर वहां मौजूद लोगों ने उन्हें तुलसी का पौधा व पुष्प गुच्छ देकर शुभकामनाएं दीं।