पावर प्लांट में तीन ठेका श्रमिक झुलसे, सुरक्षा के साधनों का नहीं था इंतजाम

-Three-contract-workers-were-injured-in-the-power-plant-in-sarni-

बैतूल ।। हेमंत पवार ।।

 सतपुड़ा ताप विद्युत गृह के पावर हाउस क्रमांक दो की इकाई क्रमांक 7 पर गुरुवार लगभग 12 बजे स्विच यार्ड में बायलर फ्लैश हो जाने से तीन कर्मचारी झुलस गए जिन्हें प्राथमिक उपचार के लिए मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी के एरिया अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन 26% से अधिक कर्मचारियों के झुमके होने के कारण उन्हें उपचार के लिए पाढर अस्पताल रेफर कर दिया गया है। जिस समय यह घटना हुई उस समय मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी का कोई भी जिम्मेदार अधिकारी घटना स्थल पर उपस्थित नहीं था ।

 बताया जाता है कि जब भी स्विच ऑन करने का कार्य किया जाता है उस समय मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी का एक जिम्मेदार अधिकारी उपस्थित रहता है तब जाकर ही स्विच को ऑन किया जाता है । लेकिन गुरुवार को 12 बजे के लगभग जब शंकर राणे, दिलीप साबले स्विच ऑन कर रहे थे तब जोर के धमाके के साथ चिंगारी निकली और दोनों ठेका श्रमिक झुलस गए जबकि तीसरा कर्मचारी कलाचंद दास दहशत में ही गिरकर घायल हो गया है। घटना की जानकारी मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी के उच्च अधिकारियों को जैसे ही लगी वह हम मौके पर पहुंच गए यदि कंपनी के सुरक्षा नियमों के साथ कार्य किया जाता तो इस तरह की घटना नहीं हो पाती।

 

 ।। पूर्व में भी हो चुकी है दो गंभीर दुर्घटना ।।

 मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी में इस तरह की घटना होना यह पहली घटना नहीं है इसके पूर्व में भी दो गंभीर घटनाएं हो चुकी है जिसमें एक मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी के कर्मचारी की उपचार के दौरान नागपुर में मौत हो गई थी। उसके बाद भी मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी ने सुरक्षा के साधनों का कोई भी पुख्ता इंतजाम नहीं किया है। जिसकी वजह से इस तरह की घटनाएं आए दिन होना मामूली सी बात हो गई है। आश्चर्य की बात तो यह कि मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी में श्रम अधिकारी के अलावा सुरक्षा अधिकारी नियुक्त किए गए हैं। लेकिन यह दोनों अधिकारी नियमों को ताक पर रखकर ठेका कर्मचारियों से पावर प्लांट में काम होता दिख रहे। की वजह से इस तरह की घटनाएं होना आम हो गई है

  

।। नियमों को ताक पर रखकर ठेकेदार करवा रहे काम ।।

 गुरुवार को 12 बजे के लगभग जो घटना हुई वह घटना में काम करने वाले कर्मचारी यूनाइटेड कंपनी के कर्मचारी थे । बताया जाता है कि इस कंपनी का सुपरवाइजर दोपहर के बाद अपने कार्यस्थल से नदारत रहता है। इसके अलावा मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी में जो सुरक्षा के मापदंड है उन सुरक्षा के मापदंडों को दरकिनार करके ठेका श्रमिकों से कार्य करवाया जाता है। इस वजह से इस तरह की घटनाओं में इजाफा होने लग गया।

 

।। इनका कहना है ।।

 गुरुवार को लगभग 12, 12:30 के बीच स्विच फ्लैश हो जाने के कारण तीन ठेका कर्मचारी झुलस गए हैं। जिनका प्राथमिक उपचार पावर जेनरेटिंग कंपनी के अस्पताल में कराने के बाद इन्हें पाढर अस्पताल भेज दिया गया है। घटना कैसे हुई और इसमें किसकी लापरवाही है ।इसकी जांच की जा रही है जांच में यदि ठेकेदार दोषी पाया जाता है तो पर नियमवाली तहत कार्रवाई की जाएगी ।

 

अमित बन्सोड, मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी, प्रवक्ता