भिण्ड: माफ़ियों के सामने प्रशासन पस्त! आरोपी के घर बुलडोजर चलाना हुआ बेकार, आरोपी अब तक फरार 

प्रशासन की एंटी माफिया कार्यवाही बेकार हुई। मर्डर के आरोपी के बुलडोज़र से छज्जे तोड़ कर बाहबही लूटने की कोशिश प्रशासन ने की लेकिन नाकामयाब हुआ।

भिण्ड, सचिन शर्मा। प्रशासन की एंटी माफिया कार्यवाही बेकार हुई। मर्डर के आरोपी के बुलडोज़र से छज्जे तोड़ कर बाहबही लूटने की कोशिश प्रशासन ने की लेकिन नाकामयाब हुआ। दरअसल,  दो दिन पहले भिंड के मेहंगाव में ज्वेलर्स राधेश्याम सोनी परिवार ने  गोस्वामी परिवार पर फ़ायरिंग कर एक का मर्डर कर दिया और 4 सदस्य अब तक घायल हैं। जिसके बाद सोनी परिवार के सदस्य  अब तक फरार है। जिसके बाद पुलिस और प्रशासन मेहंगाव में सोनी परिवार के घर पहुँचे  और आरोपियों पर दबाव बनने के लिए उसका मकान तोड़ने की कार्रवाई भी शुरू की, जो महज़ मकान के छज्जे तक ही सिमट कर रह  गयी।

यह भी पढ़े … बेटी को छेड़ने से नाराज पिता ने अधेड़ को तीन टुकड़ों में काटकर मौत के घाट उतारा

जानकारी के मुताबिक़ शुक्रवार को मेहंगाव स्थित ज्वेलर्स राधेश्याम सोनी और आइसक्रीम व्यवसायी ओम् प्रकाश गोस्वामी के परिवार सोनी के घर के बाहर आइसक्रीम रेहड़ी खड़ी करने को लेकर भिड़ गए थे, विवाद इतना बढ़ा की राधेश्याम सोनी ने परिवार जनों के साथ गोस्वामी परिवार पर ताबड़तोड़ फ़ायरिंग कर दी। इस दौरान तेज़ाब का इस्तेमाल भी किया फेंका, इस पूरे घटनाक्रम में ओम् प्रकाश गोस्वामी की गोली लगने से मौत हो गयी थी।  वहीं परिवार के तीन सदस्य गोली लगने से घायल और एक तेज़ाब से झुलस गया था।  इस घटना के बाद आरोपी सोनी परिवार के लोग फ़रार हो गए थे।

यह भी पढ़े … अब फोन करने पर नहीं सुनाई देगी कोरोना की Caller Tune, स्वास्थ मंत्रालय ने लिया फैसला 

इस पूरे घटना को लेकर मेहंगाव नगर में आक्रोश फैल चुका है, जिसे देखते हुए रविवार दोपहर कलेक्टर और एसपी मय नगर परिषद के अमले के साथ बुल्डोज़र लेकर सदर बाज़ार स्थित आरोपी राधेश्याम सोनी के घर पहुँचे। आसपास की सभी दुकानों को ख़ाली कराया गया और छज्जा गिराने के लिए JCB चलायी गयी, लेकिन कार्रवाई चंद मिनटों में फुस्स हो गयी।  और थोड़ी सी तोड़फोड़ के बाद मशीन को रोक दिया गया। मामला मीडिया में उछलते ही इस मामले पर ज़िले के किसी वरिष्ठ अधिकारी ने बोलने से मना कर दिया।  वहीं नगर परिषद सीएमओ का क़हना है की, यह कार्रवाई अतिक्रमण को लेकर की गयी है, मकान का अवैध निर्माण किया गया था।  इसलिए फ़िलहाल छज्जा तोड़ा गया है,आगे की कार्रवाई शासन के निर्देश पर की जाएगी, अब अधिकारी इसे एंटी माफिया कार्रवाई कहने से बचते नज़र आ रहे हैं।