भिंड : पत्नी का प्रचार करना पंचायत सचिव को पड़ा महंगा, हुए निलंबित

भिंड, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश के भिंड में जिला पंचायत के वार्ड सात पावई में पत्नी का प्रचार करना पंचायत सचिव को महंगा पड़ गया, पत्नी के लिए प्रचार करने की शिकायत मिलने और फिर जांच में सच सामने आने के बाद  मैदान में उतरे पंचायत सचिव हीरेंद्र प्रताप नरवरिया को कलेक्टर सतीश कुमार एस ने निलंबित कर दिया है। सचिव को जिला पंचायत कार्यालय में अटैच किया गया है। गौरतलब है  पंचायत सचिव इससे पहले वर्ष 2013 और 2018 के विधानसभा चुनाव में भाजपा का प्रचार करने पर निलंबित हो चुका है। इन दोनों विधानसभा चुनाव में सचिव ने आदर्श आचार संहिता लागू होने के बावजूद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सभा में पंचायत सचिव ने भाषण दिया था।

यह भी पढ़ें…. Fennel : रोजाना सौंफ खाने से शरीर में होते है ये गजब के फायदे, कैंसर जैसी बिमारियों में मिलती है राहत

बताया जा रहा है कि ग्राम पंचायत रिदौली और ऐंतहार के सचिव हीरेंद्र प्रताप सिंह नरवरिया की पत्नी पूजा नरवरिया जिला पंचायत के वार्ड सात पावई से सदस्य पद का चुनाव लड़ रही हैं। दरअसल आचार संहिता लगाने के बाद तय नियमानुसर बीती 16 जून को अटेर रिटर्निंग आफिसर के पत्र पर सचिव को जिला पंचायत कार्यालय में अटैच कर दिया गया था, ताकि वह पत्नी के चुनाव प्रचार में भाग नहीं ले। लेकिन अटैच किए जाने के बाद  हीरेंद्र प्रताप एक बार भी जिला पंचायत कार्यालय नहीं आए और वही अधिकारियों टल शिकायत भी पहुंची कि पंचायत सचिव अपनी पत्नी के लिए इन दिनों मोर्चा संभाले हुए है और प्रचार कर रहे है और तो और वह चुनाव प्रचार के फोटो, वीडियो वे खुद ही अपने फेसबुक अकाउंट और इंटरनेट मीडिया से शेयर कर रहे हैं। सबूत सामने आने के बाद इसे आदर्श आचार सहिंता के उल्लंघन का मामला मानते हुए कलेक्टर सतीश कुमार एस ने हीरेंद्र प्रताप सिंह नरवरिया को निलंबित कर दिया गया।  निलंबन के दौरान मुख्यालय कार्यालय जिला पंचायत रहेगा।