बीजेपी नेता रमेश दुबे का आह्वान- “मिल जुलकर करें कोरोना को परास्त”

भिंड, डेस्क रिपोर्ट। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व के द्वारा देश भर के कार्यकर्ताओं को कोरोना की सम्भावित तीसरी लहर से लड़ने की तैयारियों को लेकर एक व्यापक अभियान चलाया जा रहा है। जिसके अंतर्गत भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य डॉ रमेश दुबे ने भिंड जिले के दबोह मण्डल के कार्यकर्ताओं को वर्चुअल मीटिंग में सम्बोधित किया एवं आगामी रणनीति और सरकार के द्वारा उठाये जा रहे ऐतिहासिक कदमों को जन जन तक पहुंचाने के लिए आह्वान किया।

स्वास्थ्य विभाग का अजीबोगरीब आदेश, वैक्सीनेशन टारगेट पूरा न करने पर स्वास्थ्यकर्मी का ट्रांसफर

कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए डॉ दुबे ने कहा कि कोरोना महामारी ने पूरे वैश्विक माहौल को भयाक्रांत कर रखा है, वो तो हम भारतवासियों की जीवटता है कि हम हर परिस्थिति में टूटते नहीं हैं। कोरोना काल में भारतीय जनता पार्टी का हर कार्यकर्ता समर्पणभाव के साथ जनता की सेवा में लगा हुआ था। कोई गरीबों को भोजन मुहैया करा रहा था तो कोई मरीजों और उनके परिजनों के लिए पूर्ण सेवाभाव से तत्परता के साथ सहायता में लगा था। लेकिन देश की सबसे पुरानी पार्टी का दम्भ भरने वाली कांग्रेस का कोई भी कार्यकर्ता या नेता न तो जनता की सेवा करने के लिए आगे आया ना ही देश का साथ दिया। उल्टा बेमतलब का झूठ और फरेब फैलाकर देश का माहौल खराब करने का प्रयास किया। उन्होने आरोप लगाया कि कोरोनाकाल में कांग्रेस ने ऐसे ऐसे कुकृत्य किये जिससे देश की साख वैश्विक स्तर पर गिरे लेकिन हमें इस बात का गर्व है कि आज हमारा देश हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के हाथों में सुरक्षित है। उनके द्वारा समय समय पर ऐसे कदम उठाए गए जिसकी वजह से हम कोरोना की हर लहर पर विजय प्राप्त करते रहे।

डॉ रमेश दुबे ने कहा कि कोरोना की सम्भावित तीसरी लहर को देखते हुए प्रधानमंत्री जी ने 23123 करोड़ का पैकेज तुरन्त मंजूर किया, जिसकी सहायता से देश के अस्पतालों में ढाई लाख पलंगों की व्यवस्था की जाएगी जिसमें से 20 प्रतिशत पलंग बच्चों के लिए रिजर्व रखे जाएंगे। इस बजट में केंद्र सरकार 15 हज़ार करोड़ देगी व राज्य सरकार 8 हज़ार करोड़ देंगे। आगामी सम्भावित इस महाजंग में विजय प्राप्त करने के लिए जीनोम सीक्वेंसिंग मशीन बढ़ाई जायेगीं व हर जिले में 1 करोड़ की दवाइयां उपलब्ध होंगी। उन्होने कहा कि देश के सभी 736 जिलों में बाल चिकित्सा इकाई बनेगी, दूरस्थ सघन चिकित्सा सेवा इकाई के लिए हर राज्य में बाल चिकित्सा केंद्र बनेगा। हर जिले में 10 हज़ार लीटर ऑक्सीजन स्टोर रहेगा व 8800 नई एम्बुलेंस खरीदी जाएंगी। डेली टेली परामर्श की संख्या 50 हज़ार से बढ़ाकर 5 लाख की जाएगी,कोरोना से निपटने के लिए ग्रेज्युएट और पीजी मेडिकल इंटर्न,एमबीबीएस, बीएससी व जीएनएम नर्सिंग विद्यार्थियों को भी जोड़ा जाएगा।

डॉ दुबे ने कार्यकर्ताओं से कहा कि हमें हर हाल में हर घर से हर एक व्यक्ति को वैक्सीन लगवाना ही है और कोरोना प्रोटोकॉल को दैनिक नियमावली में अनिवार्यता से पालन कराने के लिए जन जन को जागरूक करना है ताकि हमारे नन्हे बच्चे पुनः स्कूल जा सकें, स्वतंत्र जीवन व्यतीत कर सकें। इस कोरोना महामारी में उनका बचपन भी कहीं खो गया है, इस विषम परिस्थिति को दूर करने के लिए हमें मिल जुलकर कोरोना को परास्त करना होगा।