रेत खनन माफिया एवं ठेकेदारों पर हो मुकद्दमा दर्ज, नहीं बचना चाहिए प्रकृति के दुश्मन : डॉ रमेश दुबे

रेत कम्पनी मालिक पर मुकद्दमा दर्ज कराने लहार थाना पहुंचकर दिया आवेदन

भिंड/लहार, सचिन शर्मा। भाजपा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य वरिष्ठ डॉ रमेश दुबे (dr ramesh dubey) ने लहार में प्रेस वार्ता करते हुए बताया कि अवैध उत्खनन लहार क्षेत्र में तेजी से हो रहा है, जिसका सीधा सा उदाहरण बीते 21 जुलाई को लहार क्षेत्र की पर्राइंच खदान पर सिंध नदी में आये पानी के सैलाब में अवैध रूप से रेत भरने पहुंचे ट्रकों के फँसने से करीब दो सौ लोगों की जान पर बन आई थी,तब ये मामला मीडिया के द्वारा प्रकाश में आया, जिसे लेकर भाजपा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य व समाजसेवी डॉ रमेश दुबे ने सम्बंधित रेत कम्पनी के मालिक, ठेकेदार एवं संलिप्त अधिकारियों पर कार्यवाही के लिए प्रशासन से कहा था जिसके फलस्वरूप जिला खनिज अधिकारी को बदला गया एवं खनिज इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया गया था लेकिन रेत कम्पनी के मालिक एवं ठेकेदार पर कोई कानूनी कार्यवाही नहीं हुई।

यह भी पढ़े…कोरोना और मंकीपॉक्स के बाद कोक्स सैकी वायरस ने बढ़ाई चिंता, बच्चों को इससे अधिक खतरा, जानें लक्षण

उसी तारतम्य में भाजपा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य व समाजसेवी डॉ रमेश दुबे लहार पहुंचकर सर्किट हाउस पर मीडिया से मुखातिब हुए और इस विषय पर मीडिया को अवगत कराया। डॉ दुबे ने कहा कि एनजीटी के नियमानुसार 29 जुलाई को जिला कलेक्टर द्वारा आदेश जारी कर सिंध नदी सहित पूरे जिले में रेत खनन पर पूर्ण प्रतिबंधित किया गया था उसके बावजूद भी एनजीटी एवं राज्य स्तरीय प्रभाव मूल्यांकन प्राधिकरण के नियमों के विरुद्ध रेत कम्पनी के मालिक राघवेंद्र सिंह पुत्र मेघराज सिंह, गणपत सिंह राठौर एवं दिनेश सिंह सिकरवार के द्वारा जानबूझकर प्रतिबंध के बावजूद लगातार सिंध नदी की पर्राइंच धौर-1 से मशीनों के द्वारा अवैध रूप से रेत उत्खनन कर ट्रक व डम्फर भरे जा रहे थे, तभी सिंध नदी में जलस्तर बढ़ने की वजह कई ट्रक सैलाब में फंस गए एवं दो सैकड़ा लोगों की जान पर बन आई, उक्त मामले की जांच होने पर 76 ट्रक डंफरों को प्रशासन ने जप्त किया एवं कानूनी कार्यवाह प्रतिपादित की गई।

यह भी पढ़े…आधार कार्ड धारकों के लिए बड़ी खबर, Voter ID-AADHAR लिंक के लिए 1 अगस्त से शुरू होगी प्रक्रिया, यहां जानें नवीन अपडेट

डॉ दुबे ने कहा कि उक्त मामले में संचालनालय भौमिकी खनिकर्म म.प्र. भोपाल द्वारा जिला खनिज अधिकारी को बदला गया एवं जिला कलेक्टर के द्वारा खनिज इंस्पेक्टर को निलंबित किया गया एवं कम्पनी को दोषी मानते हुए कम्पनी मालिक राघवेंद्र सिंह को 30 दिवसीय कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। डॉ दुबे ने कहा कि उक्त कार्यवाही के बाद भी कंपनी के द्वारा लगातार एनजीटी एवं SEIAA के नियमों की सरेआम धज्जियां उड़ाने एवं करीब दो सौ लोगों की जान जोखिम में डालने की करतूत को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता, इसलिए रेत कम्पनी मालिक राघवेंद्र सिंह, गणपत सिंह राठौर एवं दिनेश सिंह सिकरवार पर मामला दर्ज कराने के लिए हम आगे आये हैं। तत्पश्चात डॉ दुबे अपने साथियों सहित लहार थाना पहुंचे और थाना प्रभारी को आवेदन देकर पूरी वस्तुस्थिति से अवगत कराया एवं दोषियों पर कठोर कानूनी कार्यवाही सम्पादित करने हेतु आवेदन दिया। इस अवसर पर संजीव नायक, रामदास सोनी, शिवप्रताप सिंह, राहुल भारद्वाज एवं उदयवीर सिंह मौजूद रहे।