भिंड में खाद की किल्लत, प्रशासन की भूमिका पर भाजपा नेता ने उठाए सवाल

भिंड, सचिन शर्मा। भिंड जिले में खाद वितरण की वजह से किसानों को आ रही समस्याओं को लेकर प्रदेश भाजपा प्रतिनिधि डॉ रमेश दुबे ने सवाल उठाए हैं। उन्होने इस मामले पर जिला कलेक्टर डॉ सतीश कुमार एस. से फोन पर बिंदुवार चर्चा भी की। उन्होने कहा कि सरकार ने पर्याप्त खाद दी है और किसानों को उनकी आवश्यकता के अनुसार तुरन्त खाद उपलब्ध कराई जाए।

MP : हाईकोर्ट ने छात्र को दी बड़ी राहत, स्कूल को निर्देश, जल्द मिलेगा प्रवेश

डॉ रमेश दुबे ने कहा कि कृषि विभाग पूरी जिम्मेदारी से अपने कर्तव्यों का निर्वहन करे और सरकार के आदेश का पूरी तरह पालन किया जाए। इस गम्भीर मुद्दे पर बात करते हुए उन्होने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार के द्वारा किसानों के लिए जिला प्रशासन को लगातार पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध कराई जा रही है। फिर भी जिले में किसानों को खाद नहीं मिल रही है। भीषण गर्मी में किसान कतारों में लगे हैं और कृषि विभाग टोकन टोकन सिस्टम खेल रहा है। किसानों के प्रति जो गंभीरता दिखानी चाहिए वो कृषि विभाग के अधिकारी कर्मचारी नहीं दिखा रहे हैं।

कलेक्टर से बात करते हुए रमेश दुबे ने कहा कि एक टोकन पर मात्र 5 बोरियां दी जा रही हैं जबकि किसी भी किसान के खाते में जितनी जमीन है उसी आधार पर आवश्यक बोरियां एक साथ मिलनी चाहिए। लेकिन उचित प्रबंधन के अभाव में सरकार की मंशा को पूरा नहीं किया जा रहा है, जोकि पूर्णत: गलत है। उन्होने कहा कि कृषि विभाग ने रैक से खाद उठाकर कहां कहां भेजी और किस किसको वितरित की, यह विभाग स्पष्ट करे ताकि पारदर्शिता के साथ खाद वितरण हो सके। इसी के साथ खाद वितरण व्यवस्था को नवीन गल्ला मंडी में शिफ्ट किया जाए ताकि वहां किसानों को अधिक स्थान प्राप्त हो साथ ही किसानों के लिए पेयजल, टेंट व्यवस्था एवं केंटीन शुरू की जाए। उन्होने कहा कि सोसाइटियों के माध्यम से किसानों को खाद दिया जाए। इसके अलावा जो किसान बचते हैं उन्हें कैश काउंटर से खाद वितरण व्यवस्था से खाद दी जाए व कैश काउंटर की संख्या बढ़ाई जाए व खाते के हिसाब से विरतण किया जाए। किसानों को किसी भी प्रकार की समस्या नहीं आने देना चाहिए।

डॉ दुबे ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार अन्नदाताओं के मान सम्मान के प्रति बेहद समर्पित है अतः किसानों को जितना अधिक हो सके उन्हें पर्याप्त सहायता एवं सुगम तरीके से खाद उपलब्ध कराई जाए। एक तरफ प्रदेश सरकार 17 सितम्बर से जनसेवा अभियान चला रही है और दूसरी तरफ कृषि विभाग के अधिकारी सरकार की मंशा पर पलीता लगाने का काम कर रहे हैं। यह हरगिज बर्दास्त नही किया जाएगा। रमेश दुबे ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्म दिवस पर 17 सितम्बर से 2 अक्टूबर तक जन सेवा दिवस के तहत हर हितग्राही को उसका अधिकार दिलाने का संकल्प प्रदेश सरकार ने उठाया है और इसी के तहत हर जिले में प्रदेश के मंत्रियों की टीम गठित की गई है। जनसेवा के इस पवित्र अभियान में भारतीय जनता पार्टी का हर एक कार्यकर्ता समाज के अंतिम व्यक्ति को शासन की जनहितैषी योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। इसमें प्रशासन को भी पूर्ण निष्ठा एवं ईमानदारी के साथ जनता के हित में कार्य करना होगा।