जन संघर्ष मंच ने तीन किमी पैदल मार्च कर मुख्यमंत्री और भूतल परिवहन मंत्री के नाम कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

भिंड। गणेश भारद्वाज।

भिंड में चंबल एक्सप्रेस वे बनाने के लिए सरकार के पास पैसा नहीं है तो हम भिंड वासी चंदा करके सरकार को 2-4 करोड़ रुपए दे देंगे लेकिन हमारे यहां चंबल एक्सप्रेस वे हर हाल में बनना चाहिए। यह बात कलेक्टर छोटे सिंह को ज्ञापन सौपे जाने के बाद जन संघर्ष मंच के संयोजक और पूर्व मंत्री चौधरी राकेश सिंह ने मीडिया से चर्चा करते हुए कही।
इससे पहले चंबल एक्सप्रेस वे में भिंड को पुनः जोड़े जाने की मांग को लेकर जन संघर्ष मंच के सैकड़ों कार्यकर्ता खंडा रोड पर एकत्रित हुए और यहां से हाथ में एक्सप्रेसवे से भिंड को जोड़े जाने की मांग लिखी तख्तियां थामे सदर बाजार- बजरिया- जेल रोड होते हुए कलेक्ट्रेट पहुंचे।

इस बीच में लगातार भिंड को चंबल एक्सप्रेस वे से जोड़े जाने की मांग के लिए नारे लगते रहे । अंत में कलेक्ट्रेट के समीप यह जुलूस एक सभा में परिवर्तित हो गया। इस सभा को जन संघर्ष मंच से जुड़े करीब 1 दर्जन से अधिक गणमान्य जनों ने संबोधित किया। इसके बाद कलेक्ट्रेट पहुंचकर कलेक्टर छोटे सिंह को मुख्यमंत्री कमलनाथ और भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के नाम से दो अलग-अलग ज्ञापन सौपे गए। जिसमें चंबल क्षेत्र के समग्र विकास के लिए चंबल एक्सप्रेस वे से पुनः भिंड को जोड़े जाने की पुरजोर मांग की गई।

इस अवसर पर मंच के संयोजक श्री चौधरी ने कहा कि अगर सांसद विधायक और जनप्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री से बात की है तो आखिर क्या वजह रही कि उनकी बात सुनी नहीं गयी। हम अब अपने नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से मांग करेंगे कि वह चंबल एक्सप्रेस वे को पुनः भिंड तक लाने की मांग को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखें ।श्री चौधरी ने यह भी घोषणा की की जन संघर्ष मंच के बैनर तले आगामी 5 मार्च को कमिश्नर कार्यालय पर भी प्रदर्शन कर चंबल एक्सप्रेस वे में भिंड और मुरैना का जो हिस्सा छूटा है उसको जोड़े जाने की मांग की जाएगी।

चंबल एक्सप्रेस वे की मांग को लेकर पैदल मार्च में पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी गोपाल सिंह भदौरिया, पूर्व व्याख्याता आरएन तिवारी, खेम चन्द्र जैन, अमर सिंह भदौरिया, राहुल सिंह कुशवाह, नटराजन बाजपेयी, शशिकांत चतुर्वेदी,शहर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष रईस खान, कांग्रेस के उपाध्यक्ष डॉ तरुण शर्मा, कांग्रेस नेत्री ममता मिश्रा, नईम पठान,अशोक जैन तेल वाले, संजय देपुरिया, सरपंच रामू सिंह कुशवाह, विश्राम राजौरिया, गोविंद सिंह कुशवाह सरपंच, पत्रकार शंकर जैन, बंटी पुरोहित, बॉबी शर्मा, भरत चतुर्वेदी, राजीव शर्मा, कासिम खान, राधेश्याम गौर, संदीप मिश्रा, हरिओम शर्मा, भीम श्रीवास, कल्लू देपुरिया सहित बड़ी संख्या में जिले वासी सम्मिलित हुए।