नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर गोविंद सिंह पहुंचे आउटसोर्स कर्मचारियों से मिलने

नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर गोविंद सिंह ने कहा आउट सोर्स कर्मचारियों का पूरा वेतन दिया जाए ठेकेदारों के द्वारा कर्मचारियों के पैसे लूटे जा रहे हैं प्रत्येक कर्मचारी से ₹6000 लूटे जा रहे हैं।

Bhind – Dr. Govind Singh meet outsourced employees : तीन सूत्रीय मांगों को लेकर बिजली विभाग के आउट सोर्स कर्मचारी प्रदेश भर में 21 जनवरी से हड़ताल पर चले गए हैं, हड़ताली कर्मचारियों ने आज विद्युत विभाग के जिला कार्यालय पर एकत्रित होकर धरना दिया जहां पर उन्होंने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की, हड़ताली कर्मचारियों को समर्थन देने के लिए कांग्रेस के नेता भी धरना स्थल पर पहुंचे, कर्मचारियों द्वारा किए गए आंदोलन को सरकार द्वारा जल्द मांगे माने जाने के आश्वासन के चलते समाप्त करवा दिया था, लेकिन दो साल गुजर जाने के बाद भी सरकार द्वारा कर्मचारियों की मांगे नहीं माने जाने से प्रदेश भर के कर्मचारी एक बार फिर आंदोलित है।

आउटसोर्स कर्मचारियों का आरोप 

 

आउटसोर्स कर्मचारी संघ द्वारा 6 जनवरी से हड़ताल करने का कार्यक्रम तय कर लिया था लेकिन मध्य प्रदेश सरकार के ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव संजय दुबे द्वारा कहा गया था कि 15 दिन के लिए हड़ताल को टाल दिया जाए जिससे इंदौर में होने वाली प्रवासी भारतीयों की सम्मिट बिना किसी बाधा के हो सके और सरकार द्वारा उनकी मांगों को मान लिया जाएगा लेकिन सरकार की ओर से और सूरज कर्मचारियों की किसी प्रकार की सुनवाई ना होने के चलते इस बार कर्मचारी सरकार से आर-पार की लड़ाई के मूड़ में दिखाई दे रहे हैं, जहां कर्मचारियों ने सभी प्रकार के कार्य बंद कर दिए हैं, जिसके चलते चाहे केवलों के फॉल्ट जोड़ना हो चाहे बिल वितरण या फिर सब स्टेशनों पर विद्युत व्यवस्था को सुचारू रूप से संचालित करने का काम हो, सभी कामों को प्रदेश भर के 45 हजार आउटसोर्स कर्मचारी और उनके समर्थन में उतरे प्रदेश भर के 6000 संविदा कर्मचारी भी साथ दे रहे हैं, जिससे आने वाले दिनों में बिजली आपूर्ति संपूर्ण रूप से प्रदेश भर में ठप होने की स्थिति दिखाई दे रही है, वहीं नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर गोविंद सिंह ने कहा आउट सोर्स कर्मचारियों का पूरा वेतन दिया जाए ठेकेदारों के द्वारा कर्मचारियों के पैसे लूटे जा रहे हैं प्रत्येक कर्मचारी से ₹6000 लूटे जा रहे हैं वही नौकरी के नाम पर भी ₹50000 लिए जा रहे हैं ऐसे ठेकेदारों के खिलाफ कार्रवाई हो और आउटसोर्स कर्मचारियों को पूरा वेतन दिया जाए, सरकार इनकी मांगे पूरी नहीं करती तो आगे कांग्रेस प्रदेश भर में जन आंदोलन करेगी और आने वाले आगामी 2023 विधानसभा चुनाव में अपने वचन पत्र में आउटसोर्स कर्मचारियों का जरूर ख्याल रखेगी।

भिंड से सचिन शर्मा की रिपोर्ट