पुलिस वर्दी में आए बदमाशों ने की दिनदहाड़े लूट, किशोरी की गला घोंटाकर हुई मौत

पुलिस ने संदेह के आधार पर बेटे से पूछताछ कर रही है।

भिंड,सचिन शर्मा। एक ओर जहां देश आजाद की 75वीं वर्षगांठ मना रहा है, वहीं दूसरी और पुलिस की वर्दी में आए लुटेरे लूट की वारदात को अंजाम दे रहे थे, बता दें कि भिंड (bhind) जिले के गोहद में दिल दहला देने वाली लूट की वारदात सामने आई है, पुलिस की वर्दी में आए लुटेरों ने परिवार के सदस्यों को बंधक बनाकर लगभग 25 लाख की नगदी और सोने चांदी समेट लगभग दो करोड़ लूट की घटना को अंजाम देकर फरार हो गए। बता दें कि विरोध करने पर लुटेरों ने व्यापारी को बांधकर पीटा। साथ ही 25 वर्षीय युवती रिंकी को बंधक बनाकर उसके मुंह में कपड़ा ठूंस दिया जिससे उसकी सांस रुकने पर मौके पर ही मौत हो गई।

दरअसल, गोहद के सदर बाजार में रहने वाले बर्तन व्यापारी राम कुमार लोहिया बीती शाम घर में वह और उनकी बेटी रिंकी मौजूद थे, और बेटा बाजार निकल गया था, शाम के 4.30 बजे थे। 3 लोगों ने दरवाजा खटखटाया। इनमें दो पुलिस की वर्दी पहने हुए थे। इनमें से एक बदमाश ने मुझसे कहा कि आपके बेटे लकी ने चोरी की पिस्टल खरीदी है। इसके कारतूस आपके घर में रखे हैं। हमें जांच करनी है। पुलिस की वर्दी देख मैंने घर का दरवाजा खोल दिया। तीनों ने घर की तलाशी ली। तलाशी करते-करते वे ऊपरी मंजिल के कमरे में बनी तिजोरी तक पहुंच गए। उन्होंने तिजोरी खोली तो मेरी बेटी रिंकी ने इसका विरोध किया। उसने चिल्लाकर बताया कि बाबूजी ये पुलिस नहीं चोर-उचक्के या बदमाश हैं। बदमाशों ने मेरी बेटी से मारपीट की। मेरी बेटी ने खूब संघर्ष किया। बदमाशों ने बेटी के मुंह में कपड़ा ठूंस दिया। जब मैं ऊपर पहुंचा तो मुझसे भी मारपीट की। मुझे कुर्सी से बांध दिया। लूट के बाद लाइट बंद कर चले गए। इसके बाद मैं बेहोश हो गया।

गौरतलब है कि शाम करीब साढ़े सात बजे रामकिशोर लोहिया के घर का दरवाजा खुला दिखाई दिया तो उनके पड़ोसी मुन्ना को संदेह हुआ। उन्होंने घर में जाकर देखा तो सामान बिखरा पड़ा था। और बेटी रिंकी बेसुध थी। वे तत्काल बाहर आए और लोगों को इसके बारे में जानकारी दी। फिर हिम्मत जुटा कर वापस घर में गए आवाज लगाई तो लोहिया ने भी आवाज लगाकर उन्हें पुकारा। आसपास के लोगों के सहयोग से उन्होंने व्यापारी की रस्सियां खोली। सभी ने रिंकी को देखा तो वह अचेत थी। दम घुटने से उसकी मौत हो चुकी थी। सूचना मिलने पर स्थानीय विधायक मेवाराम जाटव सहित अन्य जनप्रतिनिधि और लोग मौके पर पहुंचे। और फिर देर रात 9:00 बजे पुलिस को खबर की गई तब पुलिस के आला अधिकारी और पुलिस की टीम मौके पर पहुंची, और पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी साथ ही शहर भर के सीसीटीवी फुटेज खंगालना शुरू कर दिया है।

आपको यहां बता दें रामकुमार लोहिया सोना चांदी गिरवी रख कर साहूकारी का भी कार्य करते थे, हालाकि पीड़ित रामकुमार बता नहीं पा रहे हैं कि उनका कुल कितना नगदी ओर सोना चांदी गया है, जो अनुमान लगाया जा रहा है कि युवती की हत्या समेत लगभग 2 करोड़ रुपए से से अधिक की लूट की वारदात को अंजाम देकर भिंड पुलिस के सामने एक बड़ी चुनौती खड़ी की है।

गौरतलब है कि लोहिया का कोई बेटा नहीं था। ऐसे में करीब 22 वर्ष पहले उन्होंने कैलारस से एक बेटे को गोद लिया था। उन्होंने बताया कि बेटा बड़ा होकर गलत संगत का शिकार हो गया है। मादक पदार्थों का सेवन करता है। इसके कारण आए दिन हमारा विवाद होता था। घटना से करीब दो घंटे पहले दोपहर दो बजे वह घर से चला गया था। जो वारदात के बाद रात करीब साढ़े 10 बजे घर पहुंचा था। तब तक क्षेत्र के सैकड़ों लोग घर आ चुके थे। पुलिस ने संदेह के आधार पर बेटे से पूछताछ कर रही है।