mp-minister-Lal-Singh-Arya-who-is-stranded-in-the-whirlpool-of-Sagar-accused-of-vyapam

भिंड। लाजपत राय अग्रवाल| जिले की गोहद विधानसभा क्षेत्र में व्यावसायिक परीक्षा मंडल घोटाले के सूत्रधार रहे जगदीश सागर ने चुनाव मैदान को बड़ा दिलचस्प बना दिया है | वे यहां बीएसपी से चुनाव मैदान में डटे हैं | सागर के भंवर में भाजपा प्रत्याशी एवं मंत्री लाल सिंह आर्य फंसे हुए दिख रहे हैं। कांग्रेस प्रत्याशी रणवीर जाटव ने यहां मुकाबले को त्रिकोणीय बना दिया है।

मंत्री लाल सिंह आर्य के सामने दिक्कत यह है कि आरक्षण विरोध की कोख से जन्मे आंदोलन ने उनके सामने बड़ी समस्या पैदा कर दी है इसीलिए तमर घार में उनके खिलाफ ज्यादा विरोध दिख रहा है।  वैसे मंत्री आर्य इस विरोध पर काबू पाने के लिए काफी मशक्कत करते दिख रहे हैं लेकिन अभी तक किसी भी कोण से उन्हें सफलता की उम्मीद नहीं बंधी है। मंत्री कहते हैं तमर घार में क्योंकि केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का जबरदस्त प्रभाव है इसलिए वे गोहद का रण जीतने तोमर के प्रभाव का इस्तेमाल करेंगे। यहां बाहरी उम्मीदवार का जुमला भी लाल सिंह के विरोधी उछाल रहे हैं।

व्यापम कांड का सूत्रधार है जगदीश सगर

बसपा उम्मीदवार जगदीश सागर किसी परिचय परिचय का मोहताज नहीं है, व्यापम कांड से इनकी ख्याति प्रदेश के घर घर तक पहुंच चुकी है सागर गोहद क्षेत्र के ही रहने वाले हैं और काफी मोटे आसामी भी हैं अपनी अकूत संपदा का उपयोग वे चुनाव जीतने के लिए करने से चूक एंगे नहीं। पैसे के बल पर उन्होंने समर्थकों की फौज भी खड़ी कर ली है। गोहद के स्थानीय मतदाताओं का मानना है फिलहाल मुकाबला भाजपा और बसपा के बीच है लेकिन कांग्रेस के स्टार प्रचारक ज्योतिरादित्य सिंधिया की सभा के बाद पूर्व विधायक एवं कांग्रेस प्रत्याशी रणवीर जाटव की स्थिति सुधरने लगी है। गोहद में चुनावी ऊंट किस करवट बैठेगा यह तो 28 नवंबर की मतदान को पता चलेगा और परिणाम 11 दिसंबर को सामने आएगा वैसे भाजपा के रणनीतिकार बहुत को काफी कठिन मानकर चल रहे हैं। लाल सिंह आर्य अपनी खराब हो चुकी फिजा को सुधारने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे हैं परिणाम क्या रहेगा यह सब समय के गर्त में है।