MP News: रिलीव से पहले कलेक्टर की बड़ी कार्रवाई, ढाई करोड़ से अधिक की सामग्री जब्त

पूर्व कलेक्टर रावत के द्वारा किसी की भी एक न सुनते हुए चलते चलते इस अब तक की सबसे बड़ी राजसाती कार्यवाही को अंजाम दे दिया गया।

MP News

भिण्ड, गणेश भारद्वाज। जिला प्रशासन की अब तक की सबसे बड़ी राजसाती कार्यवाही हुई है। खनिज (रेत गिट्टी) का अवैध उत्खनन व परिवहन करने वाले 20 वाहन राजसात, 04 ट्रक, 12 ट्रैक्टर-ट्राली राजसात, एक लोडर वाहन, एक हुडई रोलेक्स भी राजसात, सिंध नदी में अवैध रेत उत्खनन करते पकड़ी गई। चार पनडुब्बियां एवं एक इंजन भी राजसात, गुजरे फरवरी माह में अवैध उत्खनन व परिवहन करते पकड़े गए थे। सभी वाहन, अवैध उत्खनन और परिवहन को लेकर पूर्व कलेक्टर डॉ वीरेन्द्र सिंह रावत की अंतिम सबसे बड़ी कार्यवाही है।

जानकारी के मुताबिक रेत और गिट्टी खनिज का अवैध उत्खनन/परिवहन करते हुए पकडे गए। 18 वाहनो व चार पनडुब्बियों को राजसात कर दिया है। ये सभी वाहन और पनडुब्बियां पकड़े जाने की कार्यवाही पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह के दिशा निर्देशन में विभिन्न थानों की पुलिस व खनिज विभाग के द्वारा की गई। जिसके द्वारा जिला खनिज अधिकारी आरपी भदकारिया द्वारा राजसाती कार्यवाही का प्रस्ताव तैयार कर जिला कलेक्टर कार्यालय को भेजा गया।

Read More: MP Politics: नरोत्तम मिश्रा ने कसा तंज- कमलनाथ को चुनौती दे रहे दिग्विजय

खनिज विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार माह फरवरी 2021 में जिन वाहनो को राजसात किया गया है। उनमें एमपी04 एएच1571 लोडर, एन6002डी00650 हुडई रोलेक्स, एमपी32 एबी1977 टेक्टर-ट्राली, एमपी30 एबी 1041 टेक्टर-ट्राली, यूपी75यू 9047 टेक्टर-ट्राली, एमपी30 एबी 2460 टेक्टर-ट्राली, एमपी30 एबी 3889 टेक्टर-ट्राली, यूपी84टी 8740 ट्रक, यूप75 एटी8900 ट्रक, एमपी07 एचबी 5832 ट्रक, एमपी30 एए 3157 टेक्टर-ट्राली, एमपी30 एबी 1875 टेक्टर-ट्राली, एमपी30 एबी 0139 टेक्टर-ट्राली, एमपी30 एए4 367 टेक्टर-ट्राली, एमपी30एबी 3094 टेक्टर-ट्राली, एमपी07एचबी 8314 ट्रक, एमपी30 एए 9065 टेक्टर-ट्राली, एमपी32 एए 7127 टेक्टर-ट्राली, एमपी30 एबी 5741 टेक्टर-ट्राली, 2001-15411 टाटा हिटेची राजसात की गई है।

इसके अलावा चार पनडुब्बियां एवं एक इंजन लावारिस जप्त कर राजसात किया गया है। सूत्रों की मानें तो इस बड़ी राजसाती कार्यवाही को रुकवाने के लिए माफिया और उसके सफेदपोश संरक्षकों ने एड़ी चोटी का ज़ोर लगा लिया था। लेकिन पूर्व कलेक्टर रावत के द्वारा किसी की भी एक न सुनते हुए चलते चलते इस अब तक की सबसे बड़ी राजसाती कार्यवाही को अंजाम दे दिया गया।