बाल विमर्श के बच्चे देखेंगे संसद भवन, नेताओं से मिलवाएंगी सांसद संध्या राय

बाल विमर्श कार्यक्रम के तृतीय दिवस भिंड-दतिया संसदीय क्षेत्र की सांसद संध्या राय बच्चों से रूबरू हुई।

भिण्ड, गणेश भारद्वाज। केशव स्मृति सेवा न्यास (Keshav Smriti Sewa Trust) द्वारा आयोजित बाल विमर्श कार्यक्रम के तृतीय दिवस स्थानीय सांसद संध्या राय (MP Sandhya Rai) ने जिले के बच्चों के साथ चर्चा की। बाल विमर्श के ही दौरान शिवांश नामक छात्र ने जब सांसद से पूछा कि क्या वे बच्चों को संसद भवन दिखाएंगी? तो सांसद ने न केवल शिवांश को हां में जवाब दिया बल्कि यह तय किया कि कोरोना संक्रमण काल के बाद बाल विमर्श में जुड़ने वाले सभी बच्चों को देश की राजधानी दिल्ली स्थित संसद भवन दिखाएंगी और वहां देश चलाने वाले नेताओं से भी मिलवाएगी।

यह भी पढ़ें:-विश्वास सारंग ने कमलनाथ को बताया चीन का एजेंट, कहा – देश की छवि को धूमिल करने का प्रयास कर रहे हैं

बच्चों के साथ संवाद प्रारंभ करते हुए सांसद संध्या राय ने स्वामी विवेकानंद के जीवन से जड़े तीन प्रेरणादायक प्रसंग सुनाए। जिनसे सीख मिली कि सुनकर कभी विश्वास मत करो, खुद पर विश्वास रखो और कथनी और करनी में अंतर मत रखो। उन्होंने कहा कि हमे समय का सदैव सदुपयोग करना चाहिए। बाल मन मे अनंत इच्छाएं रहती हैं जब भी मन मे विचार आयें तो उनको डायरी में नोट करो और अपना लक्ष्य जरूर निर्धारित करो।

बाल विमर्श के बच्चे देखेंगे संसद भवन, नेताओं से मिलवाएंगी सांसद संध्या राय

बाल विमर्श कार्यक्रम के प्रारंभ में सबसे पहले महेंद्र सोनी के द्वारा सांसद संध्या राय का बच्चों से विस्तृत परिचय कराया। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ अधिवक्ता एड. जगदीश दीक्षित ने की। कार्यक्रम के अंत में आभार प्रदर्शन गणेश भारद्वाज के द्वारा किया गया। इस अवसर पर प्रबंधन टीम के रूप में मनीष ओझा, महेंद्र सोनी, आशीष शर्मा सुशील तिवारी, सुपनीति त्रिपाठी व आशीष जैन सम्मलित रहे।

सांसद पर प्रश्नों की बौछार

सांसद संध्या राय से सवाल करते हुए प्रश्नों की बौछार कर दी। माधव ने पूछा कि सैनिक स्कूल जिला मुख्यालय पर क्यों नहीं खुला तो अनुष्का ने गौरी के किनारे से मीट मंडी को हटाने की मांग कर डाली, तान्या ने तो कोरोना काल में मजदूरों और गरीबों और मिडिल क्लाश लोगों के बेरोजगार और आर्थिक स्थिति पर ही प्रश्न पूछ लिया। हर्षिता ने पूछा कि इस आर्थिक स्थिति के बाद क्या बिल और ईएमआई माफ होगी। मंथन यादव ने मेडिकल कालेज भिण्ड में क्यों नहीं खुला पूछा तो अभिनव सिंह ने भिण्ड में कोई भी महोत्सव न होने पर सवाल खड़ा कर दिया। नदिनी भदौरिया ने कहा कि सरकारी स्कूलों में पढ़ाई अच्छी नहीं होती, सपना ने पूछा कि हमारे यहां खेलों के लिए कोई फेसेलिटी क्यों नहीं है। तो खुशी ने पूछा कि हमारे स्कूल कब खुलेंगे, प्रज्ञा थापक ने सुझाव दिया कि शासकीय स्कूलों की वैल्यू बढ़ाने की दिशा में आप काम करें।

पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह करेंगे बाल विमर्श

बाल दिवस कार्यक्रम के चौथे दिन जिले के पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह गूगल मीट के माध्यम से बच्चों से जुड़ेंगे। बच्चों के साथ अपने विचार साझा करेंगे। इसके अलावा बच्चों के प्रश्नों का समाधान भी उनके द्वारा किया जाएगा। यह जानकारी संयोजक मनीष ओझा ने दी। उन्होंने कहा कि यह बाल विमर्श कार्यक्रम 31 मई आयोजित होगा। 30 मई को जिला स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ. अजीत मिश्रा व हरि भुवन सिंह तोमर बच्चों से जुड़कर उनके प्रश्नों का समाधान करेंगे। समापन दिवस यानि की 31 मई को प्रदेश के सहकारिता मंत्री डॉ. अरविंद सिंह भदौरिया बच्चों से बात करेंगे और उनके प्रश्नों का जवाब भी लेंगे।