निर्माण कार्यों में गड़बड़ी पर गिरी गाज, 10 पंचायत सचिव निलंबित

Negligence-in-mantega-10-panchayat-sachiv-suspended-in-bhind

भिंड़। मध्यप्रदेश के भिंड़ जिले में लापरवाही करने पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने 10 ग्राम पंचायतों के सचिवों को निलंबित कर दिया है।आरोप है कि इन सभी ने गोहद जनपद के अंतर्गत विभिन्न पंचायतों में होने वाले निर्माण कार्यों में गड़बड़ियां की है।सभी निलंबित सचिवों का निलंबन काल में मुख्यालय जिला पंचायत भिंड रखा गया है। जल्द ही इन्हें आगे की कार्रवाई कर जेल भेजा जा सकता है।बता दे कि 14 माह के बाद जांच पूरी होने पर सचिवों को सस्पेंड कर दिया गया है।वही इस घटनाक्रम के बाद ग्राम पंचायतों में हड़कंप मचा हुआ है। आगे अन्य पर भी कार्रवाई की जा सकती है।

दरअसल, सभी सचिवों की पंचायत में मनरेगा सहित विभिन्न योजनाओं के तहत हुए निर्माण कार्यों में व्यापक स्तर पर अनियमितताएं की गई थी। जब इस मामले की शिकायत हुई तो जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आरपी भारती ने ग्रामीण यांत्रिकीय सेवा के कार्यपालन यंत्री आलोक शर्मा, मनरेगा परियोजना अधिकारी प्रमोद सिंह तोमर, लेखाधिकारी दामोदरदास गुप्ता सहित अन्य अधिकारियों द्वारा जांच की गई थी। जांच में शिकायत सही पाए जाने पर गुरुवार को उक्त सभी सचिवों को निलंबित कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि सचिवों ने इस काम को सरपंचों के साथ मिलकर अंजाम दिया है।आगे इन पर भी कार्रवाई होने की पूरी संभावना है। जिला पंचायत सीईओ आरपी भारती ने कार्रवाई कर सचिवों को सस्पेंड कर जेल भेजने की तैयारी में है।सभी निलंबित सचिवों का निलंबन काल में मुख्यालय जिला पंचायत भिंड रखा गया है। 

इन सभी को किया निलंबित

-ग्राम पंचायत गुरीखा के सचिव पुष्पराज सिंह

-ग्राम पंचायत बिरखड़ी के तत्कालीन एवं वर्तमान में सहरोली के सचिव नरेंद्र सिंह गुर्जर

-आलौरी के सचिव राजवीर सिंह गुर्जर, फतेहपुर की सचिव ज्योति शर्मा

-चितौरा सचिव माहकम सिंह

-एंचाया के तत्कालीन एवं वर्तमान में कल्याणपुरा सचिव कोमल सिंह करन

-खड़ेर सचिव अनुराग कुशवाह

-पिपरसाना सचिव राघवेंद्र घुरैया

-सुहांस के तत्कालीन एवं पड़रई वर्तमान सचिव सजेंद्र सिंह तोमर

उझावल सचिव दिनेश सिंह पवैया