गोहद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की लापरवाही आई सामने, ऑपरेशन कर महिला के पेट में छोड़ी रुई

गोहद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। जहां एक महिला के पेट में ऑपरेशन (Operation) के बाद रुई (Cotton) छोड़ दी गई।

Bhind News

भिंड, सचिन शर्मा। मप्र (MP) भिंड जिले (Bhind District) के गोहद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। जहां एक महिला के पेट में ऑपरेशन (Operation) के बाद रुई (Cotton) छोड़ दी गई। जिसके बाद महिला और उसके परिजनों ने इसकी शिकायत गोहद थाना और अस्पताल के बीएमओ से की है। वहीं लापरवाही करने वालों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की गई है।

यह भी पढ़ें…Bhind News : शहर में फायरिंग कर दहशत फैलाने वाले बाइकर्स गिरोह के 4 सदस्य गिरफ्तार

मिली जानकारी के अनुसार फरियादी ज्योति को प्रसव पीड़ा होने के कारण 15 सितंबर को गोहद अस्पताल (Gohad Hospital) में भर्ती कराया गया था। जहां उसकी डिलीवरी ऑपरेशन के जरिए हुई थी। महिला का ऑपरेशन कलावती और माधुरी नाम की नर्सों ने किया था। वहीं डिलीवरी के 2 दिन बाद महिला को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी। जिसके बाद महिला के पेट में दर्द कम नहीं हो रहा था।

जहां 16 सितंबर को रात 2 बजे डिलीवरी हुई थी। डिलीवरी के समय मौके पर कोई भी डॉक्टर मौजूद नहीं था जिसके कारण वहां उपस्थित नर्सों नहीं डिलीवरी की, जहां नर्सों ने बच्चेदानी में ब्लीडिंग होने के कारण कॉटन लगा दिया और दो दिन बाद उसे डिस्चार्ज कर दिया गया। 5 अक्टूबर को जब ज्योति के पेट में दर्द उठा तो हमने यही से पेन किलर ले गए। उसके बाद भी दो-तीन दिन तक पेट में दर्द रहा और जब दर्द ज्यादा हुआ तो हमने एक प्राइवेट डॉक्टर को दिखाया, जहां भी हमें पेन किलर दे दी गई। लेकिन जब दर्द ज्यादा बढ़ गया तो पता चला कि बच्चेदानी के पास कॉटन के वजह से ज्योति को दर्द हो रहा है। जिसके बाद हमने घटना डॉक्टर साहब को बताई तो उन्होंने यह मानने से इनकार कर दिया कि नर्सों से गलती हो सकती है। जिसके बाद जब हमने यही का पर्चा दिखाया तो ज्योति को एडमिट कार्ड उसके पेट से कॉटन निकाला गया।

फरियादी का मानना है कि नर्सों की गलती की वजह से हमें बेवजह तकलीफ झेलनी पड़ी और इन्फेक्शन का भी सामना करना पड़ा जिससे कि ज्योति का जीवन संकट में पड़ सकता था। इस लापरवाही के लिए हमने एसडीएम और बीएमओ को लिखित में शिकायत की है।

 

वहीं जब इस बारे में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के बीएमओ से बात की गई तो उनका कहना था कि ज्योति की डिलीवरी के समय माधुरी और कलावती नर्स ड्यूटी पद मौजूद थी। जिनके द्वारा ही ऑपरेशन कर टांके लगाए गए थे। जब इस संबंध में दोनों नर्सों से पूछा गया तो उनका कहना था कि उन्होंने ज्योति को कॉटन निकालने को कहा था। एक नर्स का स्थानांतरण हो चुका है और दूसरी नर्स छुट्टी पर है जैसे ही वह आती है तो उससे लिखित में स्टेटमेंट लेकर उचित कार्रवाई करेंगे।