अवैध रेत उत्खनन के लिये खनिज विभाग को देना होगा जवाब, बीजेपी नेता ने उठाए सवाल

भिंड/गणेश भारद्वाज

भिंड पूर्व विधानसभा प्रत्याशी डॉ रमेश दुबे ने कहा है कि जिले में चम्बल एवं सिंध नदी पर अवैध उत्खनन पर लगाम लगाने में जिला-पुलिस प्रशासन एवं खनिज विभाग पूर्णतः अक्षम रहा है। जिले की नदियां खोखली होती रहीं और जिम्मेदार देखते रहे।

रमेश दुबे ने एक विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि कांग्रेस सरकार की विदाई के बाद प्रदेश में जनहितैषी सरकार है, अब हर तिनके का हिसाब होगा और भ्रष्टाचारियों को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होने कहा कि जिला खनिज अधिकारी जवाब दें कि रेत कारोबारियों को खनन की अनुमति देने से पहले क्या रेत खदानों का सीमांकन कराया गया था। यदि हां, तो रेत अन्य जगह से क्यों खोदी जा रही है, इसका जवाब जिला खनिज अधिकारी दें। वहीं उन्होने पूछा है कि जो रेत जब्त की गई थी वो किसके सुपुर्द की गई व उस रेत को किसके आदेश से उस स्थान से उठाया गया, ये स्पष्ट करें।

डॉ दुबे ने कहा कि बछरेठा, बड़ेरी में में मशीनें दिन में चल रही है। जिले में जगह जगह अवैध भंडारण सड़कों के किनारे व खेतों में रखा है उस पर क्या कार्यवाही हुई और अगर खनिज विभाग कार्यवाही करने में अक्षम है तो वरिष्ठ अधिकारियों से क्या क्या मदद मांगी गई, ये जिला खनिज अधिकारी आरपी भदकारिया जवाब दें। उन्होने कहा कि पॉवरमेक कम्पनी द्वारा अवैध तरीके से निरंतर खनन जारी है, खदानें कहीं स्वीकृत हैं और खनन अन्यत्र कई जगहों पर किया जा रहा है, इस पर खनिज विभाग ने क्या कार्यवाही की, स्पष्ट करे।

डॉ रमेश दुबे ने कहा कि जिस जिस ने सिंध को दुधारू गाय समझ अवैध उत्खनन करवाया है उनसे पाई पाई का हिसाब लिया जाएगा और अंधाधुंध तरीके से जिले को लूटने वाले लोगों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा शीघ्र जी इस पूरे मामले की जानकारी प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को दी जाएगी।