विजय और शौर्य प्रतीक तिरंगे की छांव में निकली शिव बारात

shiv-barat-on-maha-shivratri-

भिंड – गणेश भारद्वाज

महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर भिंड की गलियों से होकर जब शिव बारात निकली तो लोगों के मुंह से न केवल भोले नाथ की जय बल्कि वंदे मातरम और जय हिंद जय भारत के नारे भी निकल रहे थे,  जी हां महा शिवरात्रि को हजारों की संख्या में भिंड की सड़कों पर जब शिव बारात निकली तो बारातियों के बीच में देश भक्ति का जज्बा और उल्लास भी देखते ही बन रहा था,  वैसे तो यह बारात पिछले 10 वर्षों से निकाली जा रही है लेकिन इस वर्ष इस बारात की विशेषता यह थी कि बारात में न केवल तिरंगे झंडे लहराए जा रहे थे बल्कि अधिकांश बारात देश भक्ति के तीन रंगों में रंगी हुई थी,  बीच में 2 सैनिक बंदूक कन्धों पर डालकर और हाथ में विजय विश्व तिरंगा लेकर चल रहे थे तो वही लोग वंदे मातरम जय हिंद जय भारत के नारे लगा रहे थे। पुलवामा और कश्मीर के अमर शहीदों की याद में बारात शुरू होने से पहले  मौन धारण कर कर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई और फिर बारात से तीन रंगों के हमारी आन बान शान के प्रतीक तिरंगे झंडों के साथ भोले बाबा की बारात निकाली गई। बारात में हजारों श्रद्धालुओं के अलावा स्थानीय विधायक संजीव सिंह कुशवाह कांग्रेस के प्रत्याशी रहे रमेश दुबे के अलावा स्वयं कलेक्टर छोटे सिंह और पुलिस अधीक्षक रुडोल्फ अल्वारेस भी न केवल बाराती बने बल्कि सभी ने लाल बत्ती और हूटर लगी  शिव शंकर के शिवलिंग की शिव डोली को अपने कंधों पर रखकर चलने का भी पुण्य कार्य किया। बारात में प्रमुख रूप से श्याम शरण बाजपेई, पुरुषार्थ मिश्रा उर्फ गुड्डा, अमित दुबे, बाबा भगवानदास सेंथिया, राहुल भारद्वाज, विनोद पंडित, राजीव दीक्षित, राधा मोहन चौबे, रामदास सोनी, अजीत सिंह भदौरिया, रक्षपाल सिंह कुशवाह, नीतेश बोहरे,  छुत्तनू दीक्षित  सहित बड़ी संख्या में शिवभक्त शामिल हुए। बारात का सैकड़ों स्थान पर भव्य स्वागत भी किया गया। आधी रात के बाद करीब 1 बजे बारात वन खंडेश्वर मंदिर  पहुंची जहां पर विधि विधान से शिव विवाह कार्यक्रम संपन्न किया गया।