रेत खनन पर रोक लगाने गए वन विभाग की टीम को बंधक बनाया, गोली भी चलाई

villagers--hostage-forest-team-in-bhind

भिंड। गणेश भारद्वाज।

मध्य प्रदेश में अवैध रेत उत्खनन माफियाओं का आतंक जारी है। भिंड जिले में चंबल नदी में लगातार अवैध खनन किया जा रहा है। आए दिन इसकी शिकायतें मिल रही हैं। बुधवार को चंबल नदी में हो रहे अवैध उत्खनन को रोकने गई वन विभाग की टीन पर ग्रामीणों ने बंधक बना लिया। यही नहीं ग्रामीणों की हिम्मती इतनी बढ़ गई कि उन्होंने गांव में पुलिस को भी नहीं घुसने दिया। 

जानकारी के मुताबिक जब पुलिस को इस मामले की सूचना मिली तो कार्रवाई के लिए पुलिस बल के साथ गांव पहुंची। लेकिन ग्रामीणों ने वन विभाग और पुलिस की टीम, एसडीओपी, टीआई सहित सबको उल्टे पैर गांव से बैरंग लौटा दिया। पुलिस ने ग्रामीणों पर सरकार काम में बाधा डालने और रास्ता रोकने सहित विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज करेगी। घटना  थाना क्षेत्र के रानीपुरा गांव की बताई जा रही है। ये पहली बार नहीं है इस तरह की शिकायतें पहले भी आती रही हैं। गांव वाले चंबल नदी में से रेत का अवैध उत्खनन व परिवहन करते रहे हैं। लेकिन इनपर लगमा लगाने में वन विभाग और पुलिस नाकाम रही है। पुलिस पर भी आरोप लगते रहे हैं कि उनके संरंक्षण में ये पूरा खेल चल रहा है। तीन दशकों से घड़ियाल अभ्यारण क्षेत्र होने के कारण चंबल सेंचुरी में रेत के उत्खनन पर  सख्ती से रोक लगी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here