भोपाल सुसाइड केस में पांचवी मौत के बाद खत्म हुआ परिवार, सलाखों के पीछे पहुंची सूदखोरों की गैंग

इस मामले में परिवार के मुखिया संजीव जोशी ने मौत से पहले कई खुलासे करते हुए बताया की उसकी पत्नी ने बबली गैंग से 3.70 लाख रुपये कर्ज में लिये थे जिसके लिये वे रोज घर आकर गाली-गलौच करती थीं। इससे तंग आकर परिवार ने पी लिया। आज परिवार के 5वें सदस्य की भी मौत हो गई।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। सूदखोरों ने आज एक परिवार का जीवन खत्म कर दिया। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में सूदखोरों से परेशान होकर जोशी परिवार ने जहर खाकर आत्महत्या का कदम उठाया था (Bhopal family suicide case) जिसमें एक-एक कर परिवार के सभी सदस्यों की मौत हो गई है। आज सोमवार को पत्नी अर्चना जोशी ने भी इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। यह परिवार हर दिन जिंदगी और मौत से जूझ रहा था, जिसमें शुक्रवार को दादी और छोटी पोती, शनिवार को बड़ी पोती और रविवार को परिवार के मुखिया संजीव जोशी मौत हो चुकी थी। वहीं आज पत्नी अर्चना ने भी अस्पताल में आखिरी सांस ली। तो वहीं मामले में 4 सूदखोर महिलाएं आरोपी पाई गई थीं जिन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। जिसके बाद कोर्ट ने दोषी पाते हुए उन्हें जेल भेज दिया है।

ये भी देखें- उफनते दूध में फूंक मारना मासूम को पड़ा भारी, उपचार के दौरान मौत

बता दें भोपाल में 26 नवंबर को सूदखोरों से परेशान एक परिवार ने आत्महत्या करने का प्रयास किया था। इसमें एक-एक कर पूरा परिवार खत्म हो गया है। आज अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रही पत्नी अर्चना जोशी की भी सांसे थम गई। वहीं इन सूदखोरों में शामिल 4 महिलाएं जिसमें मुख्य आरोपी बबली दुबे, उसकी बेटी रानी दुबे, उर्मिला खांबरा और प्रमिला बेलदार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। जिसके बाद कोर्ट ने सजा सुनाते हुए उन्हें सलाखों के पीछे भेज दिया है।

पत्नी ने बिना बताए सूदखोर बबली गैंग से लिया था कर्ज

रविवार को संजीव जोशी ने अंतिम सांस लेने से पहले पुलिस को कई खुलासे किए हैं। पुलिस को दिए गए बयान में संजीव जोशी ने बबली गैंग का जिक्र किया था। उसने बताया कि उसकी पत्नी अर्चना ने सूदखोर बबली गैंग से 3.70 लाख रुपए कर्ज लिया था। पत्नी ने कर्ज की बात कई महीनों तक नहीं बताई थी। जब उसने बबली गैंग घर में रोज-रोज बैठते देखा तो पत्नी से इसका कारण पूछा, जिसके बाद पत्नी ने सारी सच्चाई बताई। पत्नी अर्चना ने बताया की उसने बेटियों के पढ़ाई वह अन्य खर्च के लिए कई किश्तों में 3.70 लाख रुपए बबली गैंग से ब्याज पर लिए हैं। अब वे लोग घर आकर विवाद करती हैं।

इसके बाद संजीव ने बबली गैंग को ₹80000 दिए थे और जल्द ही बाकी की रकम लौटाने का वादा किया था। लेकिन वह नहीं मानी। संजीव ने बताया कि वह महिलाएं रोजाना घर आकर ताने मारती थीं और गाली गलौज करती थीं। इसी के चलते रोज-रोज गालियों और समाज की बदनामी से तंग आकर संजीव जोशी के पूरे परिवार ने जहर खाकर आत्महत्या का कदम उठाया। जिसके बाद अब पूरे परिवार ने एक-एक कर दम तोड़ दिया।

ये भी देखें- MP Omicron alert! साउथ अफ्रीका से जबलपुर आई विदेशी महिला लापता, जानकारी में जुटा स्वास्थ्य विभाग

सीएम ने दिए थे सख्त कार्रवाई के निर्देश

इस दर्दनाक हादसे के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अवैध तरीके से सूदखोरी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए थे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सूदखोरों-साहूकारों के मनमाना ब्याज लेने से घटित भोपाल की यह घटना हृदय विदारक और असहनीय है। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए सीएम ने गलत तरीके से सूदखोरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। साथ ही सीएम शिवराज ने ये भी कहा कि बिना लाइसेंस ब्याज पर ऋण देने वाले सूदखोरों ने जिन गरीबों को ऋण दिए हैं, ऐसे 20 अगस्त तक के ऋण स्वत: माफ हो जाएंगे।