भोपाल में कोरोना के खिलाफ एक साथ 44 लोगों ने जीती जंग, सीएम ने दी बधाई

भोपाल| कोरोना के खिलाफ चल रही जंग के बीच राजधानी भोपाल से अच्छी खबर है| बुधवार को एक साथ 44 लोग कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीतकर स्वस्थ होकर घर लौटे| उन्हें बुधवार शाम को चिरायु अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया। इस दौरान अस्पताल परिसर में तालियों की गड़गड़ाहट से उनका हौसला बढ़ाया गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इन सभी कोरोना फाइटर्स को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बात कर बधाई और शुभकामनाएं दी । साथ ही उन्होंने कोरोना संबंधी इलाज में चिरायु अस्पताल की व्यवस्थाओं की सराहना की।

इससे पहले इस अस्पताल से 18 अप्रैल को 30 व्यक्ति कोरोना मुक्त होकर अपने घर लौट चुके हैं। आज घर लौटे कोरोना मुक्त लोगों में पुलिस के जवान, स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर, कर्मचारी तथा अन्य लोग शामिल हैं। कोरोना मुक्त लोगों के स्वस्थ्य होकर घर लौटने पर सीएम शिवराज ने उनसे कहा कि आपका कोरोना से लड़कर जंग जीतने का जज्बा प्रदेश की जनता के लिये शुभ संदेश है। आप सब ने प्रमाणित कर दिया है कि कोरोना वायरस से डरने की नहीं बल्कि पता लगते ही तुरंत इलाज कराने तथा इससे बचाव के उपाय अपनाने की आवश्यकता है। श्री चौहान ने इंटरनेट पर घर लौट रहे सभी स्वस्थ्य व्यक्तियों से उनका हालचाल पूछा और सलाह दी कि अपना क्वारेंटाईन पूरा करने के बाद समाज में आज जनों को जागरूक करने में योगदान दें।

-सब इंस्पेक्टर गिरीश त्रिपाठी ने मुख्यमंत्री से बात करते हुए कहा कि कोरोना से जंग जीतकर हमने बताया है कि यह लाइलाज बीमारी नहीं है।

-ऋषि राज सिंग स्वास्थ्य कर्मी ने कहा कि चिरायु अस्पताल में हमें परिवार का माहौल मिला है। इससे हम जल्दी ठीक हुए हैं।

-डॉ. राजेश त्रिपाठी ने प्रदेश की सरकार और मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि हमें आप पर गर्व है।

-राजकुमार पांडेय स्वास्थ्य कर्मी ने मुख्यमंत्री को बेहतर प्रबंधन के लिये धन्यवाद दिया।

-प्रधान आरक्षक महेश शर्मा ने मुख्यमंत्री से कहा कि यह बीमारी सर्दी, खाँसी से भी कमजोर है। हमें तो पता ही नहीं चला कि हमें कोई बीमारी है।

-विवेक जाटव ने चिरायु अस्पताल की व्यवस्थाओं को विश्व स्तरीय बताया।

-मास्टर मो. काशिद पिता मोहम्मद सादिक ने मुख्यमंत्री से कहा कि हम अब बेहतर महसूस कर रहे हैं।

-आलोक श्रीवास्तव स्वास्थ्य विभाग ने मुख्यमंत्री को बेहतर इलाज के लिये धन्यवाद किया।

-श्रीमती ज्योति चौधरी पुलिस कर्मी ने कहा कि अस्पताल में एक परिवार बन गया है। पति और बच्चे के अलावा भी चिरायु परिवार से जो आत्मीयता मिली है, उसे हम नहीं भूल पाएंगे।

-चिरायु के डॉक्टर ज्ञानेश्वर मिश्रा और अभिषेक तिवारी को मुख्यमंत्री ने मरीजों के बेहतर इलाज प्रबंधन के लिये धन्यवाद दिया।