महाराष्ट्र के पनवेल से 1200 श्रमिक आज पहुंचे भोपाल

भोपाल। पूरे देश में लॉकडॉउन (Lockdown) चल रहा है, सभी से घरों में रहने की अपील सरकार और प्रशासन द्वारा की जा रही है| लेकिन उन गरीब मजदूरों का क्या जो अपने घरों से हजारों किलोमीटर दूर किसी दूसरे राज्य में फंसे है| दरअसल प्रदेश के हजारों मजदूर काम के सिलसिले में बाहरी राज्यों में फंसे हुए हैं जिन्हे वापस लाने के काम मध्यप्रदेश सरकार (Madhya Pradesh Government) कर रही है| आज महाराष्ट्र के पनवेल से 1200 मजदूर स्पेशल ट्रेन (Specia Train) के माध्यम से भोपाल के हबीबगंज स्टेशन (Habibganj Station) पहुंचे| जहां से इन सभी लोगों को 50 बसों में बैठाकर उनके गृह जिले के लिए रवाना किया गया| आपकों बता दें कि ये मजदूर डेढ़ महीने से लॉकडाउन के कारण पनवेल में फंसे हुए थे|

पनवेल से 15 घंटे का सफर भूखा किया है तय
हबीबगंज स्टेशन पर पहुंचने के बाद मजदूरों से पता चला कि वह बीते 15 घंटे से भूखे प्यासे ट्रेन में बैठे हैं| मजदूरों का कहना था कि वे 15 घंटे तक भूखे प्यासे रहे हैं| प्रशासन की तरफ से उन्हे केवल 2 पानी की बोटल दी गई थी| पूरे रास्ते छोटे बच्चे भूख की वजह से बिलखते रहे, लेकिन किसी प्रकार की कोई मदद नहीं की गई|
स्टेशन पर मजदूरों की हुई स्क्रीनिंग
स्टेशन पर सुबह से ही जिला प्रशासन ने सभी तरह की तैयारियां कर ली थीं| मजदूरों को उनके गृह जिलों में पहुंचाने के लिए सुबह 5 बजे से ही बसे आ गई थीं| मजदूरों के लिए भोजन, पानी और स्क्रीनिंग दल भी स्टेशन पर मौजूद था| ट्रेन से उतरने के बाद सबसे पहले सभी मजदूरों की स्क्रीनिंग हुई.,,,और उसके बाद उन्हे भोजन देकर बसों से उनके घरों के लिए भेजा गया…..बता दें कि एक बस में 30 मजदूरों को बिठाया गया… प्रशासन की तरफ से सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा गया| अभी तक सरकार दूसरे राज्यों में फंसे करीब 90 हजार प्रवासी मजदूरों को राज्य वापस ला चुकी है|