एक महीने बाद गुरूवार से शुरू हुआ मंत्रालय में कामकाज, कहीं उत्साह तो कहीं भय का माहौल

भोपाल

गुरूवार से प्रदेश में मंत्रालय में कामकाज शुरू हो गया। सरकारी कार्यालय में काम के पहले दिन ‌सतपुड़ा विंध्याचल भवन में कर्मचारियों की भीड़ देखी गई। ‌ये भी दिखा कि अनेक सरकारी कार्यालयों में 30% उपस्थिति के निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। वहीं ‌कई कार्यलय में अधिकारी और कर्मचारियों को मास्क और सैनिटाइजर भी उपलब्ध नहीं हुआ।

सीएम के निर्देश के बाद गुरूवार से मंत्रालय और सरकारी कार्यालय में कामकाज शुरू हो गया है। इस दौरान ‌सतपुड़ा भवन के मुख्य गेट पर कर्मचारियों की लंबी कतारें देखी गई। ‌ केवल कर्मचारी अधिकारियों को स्क्रीनिंग कर दफफ्तर भेजा गया। इस दौरान ‌कुछ कर्मचारियों में उत्साह देखा गया तो कुछ भयभीत भी दिखाई दिए। कोरोना संकटकाल में ऑफिस जाने पर इन्हें अतिरिक्त सावधानी बरतने की जरूरत है और इसीलिये कई कर्मचारियों में संशय देखा गया।

इस बीच ‌मध्यप्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के महामंत्री लक्ष्मी नारायण शर्मा ने मांग की है कि कार्यालयों में शासन द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन और कर्मचारियों की सुरक्षा की व्यवस्था की जाए। ‌उन्होंने सभी कर्मचारियों से अपील की है कि वे सुरक्षित रह कर ही कार्य करें। ‌कुछ सरकारी कार्यालयों में अब रोस्टर बन रहा है रोस्टर और उम्मीद की जा  रही है कि ‌एक-दो दिनों में व्यवस्थाएं ठीक हो जाएंगी और तब जाकर 30% उपस्थिति को सुनिश्चित किया जा सकेगा।