माता बनी कूमाता, बेटे के लालच में मां ने एक महीने की मासूम को उतारा मौत के घाट

भोपाल,डेस्क रिपोर्ट। कहते है पूत कपूत हो सकता है पर माता कूमाता नहीं पर इस कथन को झूठा करने वाला मामला राजधानी भोपाल के खजूरी थाना क्षेत्र से आया है, जहां एक मां ने बेटे के लालच में अपनी एक महीने की बेटी को टंकी में डूबाकर उसकी जान ले ली। मामला संज्ञान में आते ही पुलिस ने जांच शुरु कर दी और पूछताछ में मां ने बेची के कत्ल करने की बात कबूल की।

वहीं डीआईजी इरशाद वली ने बताया कि 21 साल की सरिता बेटा न होने से दुखी थी। बुधवार को उसके घर के सभी 11 सदस्य खेत पर गए थे। दोपहर करीब 11 बजे सरिता ने बेटी के नहीं मिलने को लेकर जोर-जोर से चिल्लाना शुरू कर दिया।उसने बताया कि उसकी बेटी किंजल कहीं नहीं मिल रही है। जिसके बाद घरवालों ने बच्ची को खोजना शुरु किया। घरवालों को शक हुआ कि बच्ची को कोई जानवर लेकर गया है। पूरे मामले की खबर जब पुलिस को लगी तो बच्ची की तलाश गंभीरता से की गई तो बच्ची का शव पानी की टंकी में मिला। बच्ची की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उसकी डूबने से मौत की पुष्टि हुई। पुलिस को शुरु से ही बच्ची की मां  पर शक था।

आगे पुलिस ने बताया कि सरिता पूछताछ के दौरान गुमराह करने की पूरी कोशिश करती रही। सरिता ने बताया कि उसे भूत आते है, वहीं बेटी होने के कारण उसे सभी ताना देते थे। वह शुरूआत में बहकी-बहकी बातें करती रही। बाद में पुलिस ने जब सख्ती से पूछताछ की तो उसने बताया कि उसने ही बेटी को पीने के पानी की टंकी में डुबोकर ऊपर से ढक्कन लगा दिया था। जिसके बाद शोर मचाकर लोगों को जमा कर लिया। पुलिस से बात करते-करते वह कई बार बेहोश हुई। ऐसे में उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।